धूमधाम से मनाया गया मकर संक्राति पर्व !

फर्रुखनगर (नरेश शर्मा) : फर्रुखनगर शहरी व ग्रामीण आंचल में मकर संक्राति पर्व धूमधाम से मनाया गया। महिलाओं ने अपने बडे बुजुर्गो को उपहार में नये वस्त्र, नगद राशि, तील के लडडू, गुड की गजहक आदि भेट करके अनकी चरण वंदना की और उनका अर्शिवाद प्राप्त करके सभी परम्पराओं को पूर्ण किया।
इस मौके पर माया शर्मा, चंद्र कांता यादव, प्रेम सैनी, सुशिला सैनी, लता सैनी, मुन्नी यादव, पूर्व नगर पार्षद नीरू शर्मा, सुमन सैनी, बिमला सैनी, लक्ष्मी सैनी, गीता सैनी, ज्योति, भारती, योगिता शर्मा, तारो सैनी, नीशा सैनी, रजनी, ओमवती शर्मा, राधा सैनी, कौशल्या यादव, आदि ने बताया कि भारतीय संस्कृति में मकर संक्रांति पर्व मनाने को लेकर अनेकों दंत कथाये जुडी है। मकर संक्राति को मनाने की सभी की अपनी परम्पराएं है। किसी के लिए तिल-गुड़ के बिना यह त्योहार अधूरा है, तो कहीं दाल-चावल और तिल दान किए जाते हैं। वहीं, इस दिन खिचड़ी बनानी शुभ मानी जाती है। इसके अलावा खिचड़ी दान भी करने की परम्परा है। ऐसे में क्या आप जानते हैं कि खिचड़ी क्यों मानी जाती है शुभ और सेहत से जुड़े फायदे- है और दिन खिचड़ी खाने से सूर्यदेव प्रसन्न होते है। इस दिन खरीफ की फसलों चावल, चना, मूंगफली, गुड़, तिल उड़द इन चीजों से बनी सामग्री से भगवान सूर्य और शनि देव की पूजा की जाती है।
मकर संक्रांति के दिन चावल और उड़द की दाल से खिचड़ी बनाकर भगवान सूर्य को भोग लगाया जाता है और इसे प्रसाद के रूप में लोग एक दूसरे के घर भेजते हैं। वहीं रुठों का मनाने का सबसे बडा पर्व भी है। हरियाणा प्रदेश में आज के दिन घर की नव वधु अपने पीहर से दान स्वरुप बुजुर्गो के लिए वस्त्र आदि सामान मंगवा कर अपने बुजुर्गो का सम्मान बैंड बाजे के साथ गीत गाते हुए करती है। उनके चरण छू कर उनका आर्शिवाद प्राप्त करती है। वहीं इस दिन गाय को गुडा, हरा चारा, नगद राशि दान करना भी बहुत ही पुन्य का कार्य समझा जाता है। मकर संक्राति के दिन सुबह ही सभी परिवारों के सदस्य स्नान आदि करके नये वस्त्र पहन कर पूजा अर्चना करते है और बाजरे, गेंहू की रोटियों से बनाये गए चूरमे में देश घी मिला कर खाते है। सब्जी के रुप में दाल बनाई जाती है। घर पर महिलाए गीत नृत्य आदि करके अपने बुजुर्गो के सम्मान में सौगात देती है वहीं पुरुष गौशाला में गौ माता को गुड, हरा चारा खिला कर रांगनी, सांग आदि का आनंद लेते है।