बसई ट्रिपल मर्डर केस में मुख्य आरोपी सहित तीन गिरफ्तार

-आरोपी ने अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर दिया था तिहरे हत्याकांड को अन्जाम
-हत्याकांड की वारदात में शामिल रहे 09 आरोपियों को पुलिस टीम द्वारा किया जा चुका है काबू
गुरुग्राम : दिनांक 20.08.2020 को थाना सैकटर-9, गुरुग्राम में विंग अपार्टमैंट सैक्टर-9 गुरुग्राम में प्लॉट के झगड़े को लेकर 02 गुटों के बीच पैदा हुई रंजिश के चलते तीन युवकों की गोली मारकर हत्या करने की वारदात को अन्जाम दिया गया था। इस तिहरे हत्याकांड को अन्जाम देने वाले व इस हत्याकांड की योजना में शामिल रहे कुल 09 आरोपियों को गुरुग्राम पुलिस द्वारा काबू करके उनके कब्जा से वारदात में प्रयोग किये गए हथियार व वाहन इत्यादि बरामद किए थे।
आरोपियों से पुलिस पूछताछ में ज्ञात हुआ था कि बसई गाँव के रहने वाले जोनी व मोनी 02 भाईयों के 01 प्लाट पर अमित उर्फ काले व विनोद ने अवैध रुप से कब्जा करके बेच दिया था। जिस प्लाट को लेकर जोनी-मोनी तथा अमित उर्फ काले के बीच में रंजीश पैदा हो गई थी। इस रंजीश के चलते अमित उर्फ काले द्वारा रेवाङी में मोनी निवासी बसई की हत्या को अन्जाम दिया गया था। मोनी की हत्या के बाद मोनी के भाई जोनी ने अपने भाई की हत्या का बदला लेने के लिए अमित उर्फ काले के साथी सन्जू की हत्या को अन्जाम दिया था। उसके बाद अमित उर्फ काले व जोनी दोनों जेल में बन्द थे।
उपरोक्त अभियोग में आगामी कार्यवाही करते हुए अपराध शाखा सैक्टर-17, गुरुग्राम की पुलिस टीम ने अपने गुप्त सूत्रों की सहायता से व अपनी समझबूझ से उपरोक्त अभियोग की वारदात को अन्जाम देने वाले निम्नलिखित मुख्य सरगना को उसके 02 साथी आरोपियों के साथ दिनाँक 20.11.2020 को उत्तराखंड से गिरफ्तार किया जिनकी पहचान पवन नेहरा पुत्र दयाराम निवासी गांव भुड़का, थाना बिलासपुर, जिला गुरुग्राम, 23 वर्ष, सावन उर्फ जे.डी. पुत्र जयदीप निवासी खुंगायी, थाना सदर झज्जर, उम्र 23 वर्ष व् मोनू उर्फ सूखा पुत्र लख्मी निवासी निदाना, जिला रोहतक, उम्र 23 वर्ष के तौर पर हुई है।
उपरोक्त अभियोग में उक्त आरोपियों को नियमानुसार गिरफ्तार किया गया व माननीय अदालत के सम्मुख पेश करके आरोपियों को 05 दिन के पुलिस हिरासत रिमाण्ड पर लिया गया। पुलिस पूछताछ में बताया की बसई गाँव के रहने वाले जोनी व मोनी 02 भाईयों के 01 प्लाट पर इसने (अमित उर्फ काला) व विनोद ने अवैध रुप से कब्जा करके बेच दिया था। जिस प्लाट को लेकर जोनी-मोनी तथा इसके बीच में रंजीश पैदा हो गई थी। इस रंजीश के चलते इसने रेवाङी में मोनी निवासी बसई की हत्या कर दी। मोनी की हत्या के बाद मोनी के भाई जोनी ने अपने भाई की हत्या का बदला लेने के लिए इसके साथी सन्जू की हत्या कर दी थी। जिसके कारण ये जोनी व उसके साथियों से रंजिश रखते थे। आरोपी पवन नेहरा उपरोक्त ने व मोनू उर्फ सूखा उपरोक्त ने अपने साथियों के साथ मिलकर उपरोक्त अभियोग में हत्या करने की वारदात को अंजाम दिया था, तथा उपरोक्त आरोपी सावन उर्फ जे.डी. ने वारदात में प्रयोग की गई गोलियां अपने साथियों को उपलब्ध कराई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *