रिश्वत मामले में हवलदार का होगा नार्को टेस्ट, इंस्पेक्टर को राहत

गुरुग्राम: रिश्वत लेने के मामले में आरोपित निलंबित इंस्पेक्टर विशाल का नार्को टेस्ट नहीं होगा। जिला अदालत में मामले की जांच कर रही विजिलेंस टीम की अर्जी को खारिज कर दिया। हालांकि अदालत ने मामले के आरोपित निलंबित हवलदार अमित का नार्को टेस्ट तथा तीसरे आरोपित फार्म हाउस संचालक कृष्ण का वायस टेस्ट कराने की अनुमति दे दी है।
दरअसल जिस व्यक्ति का नार्को टेस्ट कराना होता है उसकी सहमति जरूरी होती है। विशाल के अधिवक्ता ने अदालत को बताया कि विशाल नार्को टेस्ट कराने को तैयार नहीं है। टेस्ट के दौरान दी जाने वाली दवाओं से शरीर मे दुष्प्रभाव होता है। दो घंटे तक चली बहस के बाद अदालत ने विजिलेंस द्वारा विशाल का टेस्ट कराने के लिए डाली गई अर्जी खारिज कर दी।
ज्ञात रहे 28 दिसंबर 2020 की रात फरीदाबाद की विजिलेंस टीम ने खेड़कीदौला थाने में तैनात रहे हेड कांस्टेबल अमित को दिल्ली निवासी काल सेंटर संचालक नवीन भूटानी से पांच लाख रुपये रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया था। पूछताछ में अमित ने कबूला था कि वह इंस्पेक्टर विशाल के कहने पर रकम लेने पहुंचा था। विजिलेंस ने उसे रिमांड पर लेकर पूछताछ की तो सामने आया कि काल सेंटर संचालक से पहले 57 लाख रुपये लिए गए थे। उन्हें बंधक बनाकर कृष्ण कुमार के फार्म हाउस में रखा गया था।
अमित के बाद विजिलेंस ने कृष्ण कुमार गिरफ्तार किया था, जबकि विशाल ने अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया था। विजिलेंस टीम ने उसे दो बार रिमांड पर लेकर पूछताछ की पर कुछ भी जानकारी सामने नहीं आ पाई थी। अब 57 लाख रुपये लिए जाने की पुष्टि के लिए साक्ष्य जुटाना विजिलेंस टीम के लिए बड़ी चुनौती है। इसलिए ही विशाल व अमित का नार्को तथा कृष्ण कुमार का वायस टेस्ट कराने के लिए अदालत में अर्जी दी थी। तीनों आरोपित न्यायिक हिरासत में भोंडसी जेल में बंद हैं।