आमने-सामने हुए जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी और बर्खास्त पीटीआइ, बुलानी पड़ी पुलिस !

फरीदाबाद : जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी रितु चौधरी और बर्खास्त पीटीआइ आमने-सामने हो गए जिसके बाद मौलिक शिक्षा अधिकारी को पुलिस बुलानी पड़ी। पीटीआइ कई दिनों से अनुभव प्रमाण पत्र को सत्यापित कराने के लिए मौलिक अधिकारी के चक्कर लगा रहे थे, लेकिन प्रमाण पत्रों में खामियां होने के कारण वे सत्यापित नहीं कर रही थीं।
पीटीआइ अनुभव प्रमाण पत्र को सत्यापित करना पहुंचे थे। उन्होंने विभाग के अधिकारियों को बुरा-भला कहा। उधर, मौलिक अधिकारी को यह सब नागवार गुजरा और उन्होंने पुलिस बुला ली। मामले को शांत करते हुए मौलिक अधिकारी ने पीटीआइ को बृहस्पतिवार को उनकी समस्या का समाधान करने का आश्वासन दिया। उल्लेखनीय है कि आठ महीने पहले सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद हरियाणा के उन पीटीआइ को नौकरी से बर्खास्त कर दिया था, जो 2010 में लगे थे। यह पीटीआइ अपने-अपने जिलों में पुन: नौकरी पर लगने की मांग कर रहे हैं। जिले के पीटीआइ भी सेक्टर-12 लघु सचिवालय के सामने बैठे हुए हैं। अब सरकार ने इन बर्खास्त पीटीआई को गेस्ट टीचर की तरह नौकरी पर रखने के लिए कहा। पीटीआइ को नौकरी पर रखने के लिए सरकार ने 25 जनवरी से पार्टल खोला है, ताकि यह अपने अनुभव प्रमाणपत्र समेत अन्य औपचारिकताओं को भरकर भेज सके। अनुभव प्रमाण पत्र को मौलिक अधिकारी को सत्यापित करने हैं, लेकिन बर्खास्त पीटीआइ बृजेश नागर, जयदीप पाराशर, संतोष व अन्य ने बताया कि वह तीन दिन से अनुभव प्रमाण पत्र लेकर सत्यापित कराने जा रहे थे पर बाबू खामियां बताकर परेशान कर रहे हैं। वह इस मामले में मौलिक अधिकारी से भी मिले। अधिकारी ने खामियों को दूर करने के लिए कहा। हमने अधिकारी के कहने पर भी खामियों को दूर किया। बावजूद प्रमाण पत्र सत्यापित नहीं हुए और पोर्टल एक फरवरी को बंद हो जाएगा।
मौलिक अधिकारी रितु चौधरी ने बताया कि शिक्षा निदेशालय द्वारा जारी किए गए परफोरमा को बर्खास्त पीटीआइ को भरकर देना होगा तभी वह मान्य होगा, लेकिन बर्खास्त पीटीआइ जबरदस्ती काम कराना चाहते हैं। सभी पीटीआइ को बृहस्पतिवार को बुलाया गया है।