लोगों को खून के आंसू रुला रहे अब बिजली के भारी भरकम बिल

गुरुग्राम : लॉकडाउन और अनलॉक में सही बिजली रीडिंग न लिए जाने का खमियाजा उपभोक्ताओं को उठाना पड़ रहा हैं। इस वजह से बिजली उपभोक्ता नवंबर के बिजली बिल को लेकर परेशान हैं। जैकबपुरा, गुडगांव गांव, न्यू कालोनी समेत कई अन्य एरिया के लोग इस तरह के बिल से परेशान हैं। क्योंकि पहले 4 से 6 महीनों में बिल कम आया, लेकिन अब एक साथ पिछली रीडिंग का भार लोगों पर पड़ गया है।
दरअसल, बिजली के बिल औसत से दोगुना थमा दिए गए हैं, जिससे उपभोक्ता बिजली निगम के अधिकारियों से शिकायत भी कर रहे हैं, लेकिन अधिकारियों का कहना है कि लॉकडाउन के दौरान औसत से ही बिल दिए गए थे, सितंबर-अक्टूबर में रीडिंग लेने के बाद अब बिल जारी किए गए हैं, जिससे कुछ उपभोक्ताओं का अतिरिक्त बिल हो गया है। वहीं, औसत से दोगुना बिजली बिल थमाए जाने से उपभोक्ता खासे परेशान हो रहे हैं।
ओल्ड गुड़गांव में इस तरह के बिल की शिकायत काफी उपभोक्ता कर रहे हैं। गुड़गांव गांव निवासी अरुण ने बताया कि वे अपने बिल का भुगतान हर महीने कर रहे थे, लेकिन अचानक अक्टूबर का बिल 3 हजार के बजाय 8 हजार दिया गया है। उन्होंने इस बारे में अधिकारियों से शिकायत की तो उन्होंने कहा कि मार्च से सितंबर के बीच के बिल औसत रीडिंग के भेजे गए थे। लॉकडाउन और कोरोना संक्रमण को लेकर रीडिंग नहीं ली जा सकी थी, लेकिन अब औसत के अनुसार जिन उपभोक्ताओं की बिजली अधिक खपत हुई, उनका बिल अतिरिक्त हो गया। ऐसे में मीटर की रीडिंग के अनुसार ही बिल दिए गए हैं। इसी तरह एक नहीं बल्कि कई उपभोक्ता परेशान दिखाई दिए हैं। वहीं, इंद्रपुरी में रहने वाले रविंद्र शर्मा का पिछले 4 महीनों के बिल कम आया, लेकिन अब कई गुना अधिक बिल उन्हें परेशान कर रहा है।
बिजली विभाग में एसई जोगिन्द्र सिंह हुड्डा का कहना है कि बिल अतिरिक्त नहीं है, केवल लॉकडाउन के दौरान रीडिंग नहीं लिए जाने के कारण औसत और मीटर रीडिंग की यूनिट के अंतर होने से बिल अधिक है। बाकी किसी भी उपभोक्ता पर अतिरिक्त बिल नहीं दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *