गृह मंत्री के ओएसडी के नाम से फर्जी कॉल कर थाना प्रभारी को धमकाया

यमुनानगर : दमोपुरा में खनन के ओवरलोड वाहनों को रोकने पर ग्रामीणों को धमकी देने के मामले में जजपा जिलाध्यक्ष अर्जुन सिंह के बेटे भूपेंद्र सिंह व एक अन्य सचिन की तलाश में पुलिस दबिश दे रही है। अभी तक दोनों आरोपित पुलिस के हाथ नहीं लगे हैं। वहीं इस मामले में पकड़े गए दो आरोपित सगे भाई बूड़िया निवासी रामकुमार व अनिल को शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया गया। जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।
दमोपुरा में हुए इस विवाद के दौरान ही आरोपित रामकुमार ने गृह मंत्री के ओएसडी के नाम से फर्जी कॉल कर बूड़िया थाना प्रभारी लज्जा राम को धमकाया था। यह मामला अलग से दर्ज है। इन दोनों मामलों में दो अलग-अलग केस दर्ज हैं। ग्रामीणों को धमकाने के मामले में पुलिस ने केस में हत्या के प्रयास की धारा इजाद की है। जिससे जजपा जिलाध्यक्ष के बेटे भूपेंद्र व अन्य आरोपितों की मुश्किल बढ़ गई है।
26 अक्टूबर की रात को गांव दमोपुरा में ग्रामीणों ने ओवरलोड वाहनों को रोकने के लिए रास्ता बंद कर रखा था। इसी दौरान भूपेंद्र सिंह अपनी फॉरच्यूनर कार में आया और ग्रामीणों को धमकी दी। रिकू नाम के युवक को जान से मारने की धमकी दी। बीच बचाव में पुलिस आई, तो बूड़िया थाना प्रभारी लज्जा राम को भी पिस्टल दिखाई। जिसे थाना प्रभारी ने उसके हाथ से छीना। इस पूरे मामले का वीडियो भी वायरल हुआ था। साथ ही ओएसडी के नाम से फर्जी कॉल करने की ऑडियो भी वायरल हुई थी।
इस मामले में आरोपित जजपा जिलाध्यक्ष अर्जुन सिंह के बेटे भूपेंद्र सिंह को बेकसूर बताते हुए सोशल मीडिया पर पोस्ट वायरल हुई है। जिसमें लिखा गया है कि भूपेंद्र जयरामपुर अच्छे इंसान है। इंसान गलतियों का पुतला है। इस वीडियो में ऐसा कुछ नहीं है कि भूपेंद्र ने इतना बड़ा क्राइम कर दिया है। भूपेंद्र ने कभी कोई निदनीय कार्य नहीं किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *