प्रियंका हत्याकांड : धरना, प्रदर्शन, नारेबाजी के ढोंग की नहीं, आत्ममंथन की जरुरत

उषा यादव
फरीदाबाद : फिर एक बेटी अपने, अपने पिता, अपने परिवार के अरमानो को पूरा किया बगैर इस दुनिया से अलविदा कह गई। ये एकतरफा प्रेम था, ‘लव जिहाद’ था या कुछ और लेकिन इसके पीछे नजर वही समाज का घिनोना चेहरा ही आता है जो गाहे बगाहे बेटियों की इज्जत के साथ खिलवाड़ ही नहीं कर रहा बल्कि उसकी जान भी ले रहा है। फरीदाबाद में सोमवार को निकिता हत्याकांड के बाद लोगों का गुस्सा उबाल पर है। लेकिन ये उबाल कब तक ? हर बार जब कोई बेटी ऐसे राक्षसों की बली चढ़ जाती है तो धरना, प्रदर्शन, नारेबाजी सब ढोंग चलते है लेकिन वास्तव में जब इस बेटी की जान जा रही थी तो आसपास कोई नहीं था? मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लोग आराम से आ जा रहे थे लेकिन किसी में कोई जहमत उठाने की सोची तक नहीं।
यदि वास्तव में हमारा समाज जागरूक है और बेटी की रक्षा के प्रति वचनबद्ध है तो फिर शायद ही किसी तौसीफ की हिम्मत होती कि वह सड़क किनारे कार खड़ी करके पहले निकिता के साथ जबरदस्ती करे और फिर उसे गोली मारकर वहां से आसानी से निकल जाए। मीडिया में प्रकाशित तस्वीरें और सीसीटीवी फुटेज साफ़ बया करती है कि कैसे लोग बुजदिलों की तरह सब अनदेखा कर निकल रहे है । और शायद यही है अब उस मरी हुई बेटी के लिए इंसाफ की मांग करने वाले समाज की ठेकेदारों की असलियत।
निकिता की हत्या तब की गई जब वह कॉलेज से परीक्षा देकर लौट रही थी। इस बीच दो युवक कार से आए। उनमें से एक ने छात्रा को कार में जबरदस्ती बैठाने की कोशिश की। वह छात्रा को हर कोशिश कर पीछे की सीट पर बैठाने का प्रयास करता रहा। छात्रा भी पूरी ताकत से उसका मुकाबला करती रही। तौसीफ ने तो जुर्म को अंजाम देने का दुस्साहस किया, लेकिन इस जुर्म को होते देख जिन लोगों ने आवाज उठाने के बजाय नजरें नीचे कर लीं।
अब जब मामला सुर्खियों में आ गया है तो लंबी-लंबी बाते शुरू हो गई हैं। निकिता को इंसाफ और देश की बेटियों को सुरक्षा देने के नारे बुलंद किये जा रहे हैं। लेकिन उस समय आखिर कैसे लोग संवेदन शून्य हो गए थे। एक बार फिर पूरा देश न्याय की बाट जोहने लगा है लेकिन क्या वास्तव में इस घटना के पीछे समाज की जिम्मेदारी नहीं है ! आखिर कब तक बेटियों के साथ इस तरह के घिनौने कृत्य होते रहेंगे ? आइये आत्म मंथन करे और खुली रखे अपनी आखे ताकि ऐसा कृत्य दोहराया ही न जाये |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *