गुरुग्राम में चिटफंड योजना बनाकर लोगों से ठगी

गुरुग्राम : रियल एस्टेट निवेश कंस्लटेंट कंपनी में काम करने वाले कर्मचारियों द्वारा खुद की चिटफंड योजना बनाकर लोगों से ठगी करने का मामला सामने आया है। कंपनी के कर्मचारियों की ओर से की गई ठगी अभी तक जिले में इस तरह की अपने आप में अलग ठगी है। पुलिस ने कंपनी के निदेशक की शिकायत पर दोनों कर्मचारियों के खिलाफ शुक्रवार को सुशांत लोक थाना में मामला दर्ज कर लिया है।
अब इस मामले की जांच आर्थिक अपराध शाखा कर रही है। हालांकि अभी कंपनी और पुलिस को जानकारी नहीं मिल पाई है कि कर्मचारियों ने अपनी फर्जी चिट फंड योजना में कितने लोगों को अपना शिकार बनाया और कितने रुपये उनसे ठगे है।
रियल एस्टेट निवेश कंस्लटेंट ईलाइट कंपनी के ‌निदेशक योगेश यादव ने बताया कि उनकी कंपनी रियल एस्टेट में निवेश करवाने के लिए लोगों को परामर्श देती है। कंपनी ने साल 2017 में आरोपी धीरज मुतरेजा और शगुफ्ता खां उर्फ शगुन को नौकरी पर रखा था। नौकरी पर रखने के बाद दोनों को कंपनी ने अपने ग्राहकों की पूरी जानकारी दी। जिन्होने कंपनी की सलाह पर अपनी चल-अचल संपत्ति पर निवेश किया था।
कंपनी का महत्तवपूर्ण डाटा भी उनसे साझा किया था,ताकि कंपनी के कारोबार में बढ़ोतरी हो। दोनों आरोपियों ने जून 2020 में नौकरी छोड़ दी। आरोप है कि उन्होने कंपनी का महत्वपूर्ण डाटा भी चुरा लिया। आरोपियों ने कंपनी के मौजूदा ग्राहकों से संपर्क करना शुरू किया। पता चला कि साल 2019 में आरोपियों ने गैरकानूनी और धोखाधड़ी वाली चिट-फंड स्कीम बनाई और वह स्कीम कंपनी के ग्राहकों को लुभावने रिटर्न के बारे में बताया। उसके बाद कंपनी की ग्राहक कृष्ण दहिया से संपर्क किया और उनको बताया कि एक नामी बिल्डर ने नई चिट-फंड स्कीम लांच की है।
उसके बारे में बताया और ज्यादा रिटर्न मिलने का दावा पेश किया। इस पर वह निवेश करने के लिए राजी हो गई। कंपनी की महिला कर्मचारी को एक नामी बिल्डर कंपनी का कर्मचारी बता कर उनके साथ लाखों रुपये निवेश करवार कर धोखाधड़ी की गई। जब आरोपियों ने ग्राहक के रुपये नहीं लौटाए तो कंपनी को इस पूरे प्रकरण के बारे में ग्राहक से पता चला। मामले की जांच आर्थिक अपराध शाखा कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *