बंद आँखों से देखे सुनहरे भविष्य के सपने, कर दिखाए साकार !

-नेत्रहीन संदीप यादव 12वीं में रहे टॉप, अब बैंक में अफसर और कर रहे आईएएस की तैयारी !
रेवाड़ी : रेवाड़ी के गांव रालियावास निवासी 23 वर्षीय संदीप यादव, जब 5वीं कक्षा में थे तो बीमार पड़ गए और आंखों की रोशनी चली गई। लेकिन संदीप ने पढ़ाई नहीं छोड़ी और ब्रेल लिपी से पढ़ना शुरू कर दिया। अक्षरों से उनका लगाव ही था कि सीबीएसई बोर्ड से 12वीं पास की और 91.4% अंक लेकर कक्षा में टॉप-3 में रहे।
अपनी बंद आँखों से सुनहरे भविष्य के सपने संजोने वाले संदीप ने आखिर अपनी काबिलियत की बदौलत पहले बैंक में क्लर्क की नौकरी पाई और फिर आईबीपीएस की परीक्षा पास कर बैंक में ही अधिकारी लग गए। लेकिन संदीप यादव अभी इतने में संतुष्ट नहीं है और आईएएस बनने का सपना देखते हैं। इसके लिए उन्होंने यूपीएससी की तैयारी भी शुरू कर दी है। देखने में अक्षम होने के बावजूद स्कूल शिक्षा से बैंक अधिकारी बनने तक के सफर को लेकर संदीप यादव का कहना है कि इंसान का ब्रेन (मस्तिष्क) काम करना चाहिए। यदि ब्रेन से आप ठीक तरीके से काम ले पा रहे हैं तो फिर शरीर के किसी एक अंग की अक्षमता आपकी कामयाबी नहीं रोक सकती, आप पूरी तरह काबिल हैं।
संदीप के पिता बसंत लाल बताते हैं कि जब वह 5वीं कक्षा में था तो उसे बुखार हुआ था। दिल्ली एम्स तक में इलाज कराया, मगर आंखों को नहीं बचा पाए। धीरे-धीरे आंखों की रोशनी जाने लगी। संदीप की पूरी जिंदगी का सवाल था, इसलिए पढ़ाई का जरिया जारी रखने के लिए जून 2007 में दिल्ली के रोहिणी से ब्रेल लिपी सिखाई। 3 माह के कोर्स को संदीप ने 2 माह में ही सीख लिया था।
2008 में उसका दाखिला दिल्ली के ही जेपीएम स्कूल फॉर ब्लाइंड में कराया और उसने 2015 में 12वीं पास कर ली। 2018 में इतिहास विषय से ग्रेजुएशन भी पूरी कर ली। संदीप का कहना है कि वे पढ़ाई के लिए सोशल मीडिया और यू-ट्यूब का प्रयोग करते थे। स्कूल व कॉलेज में वे खुद टीचर की बात रिकार्ड कर लाते थे तथा घर आकर उसे सुनते और याद करते। पढ़ाई के लिए संदीप ने समय नहीं देखा।
उसके पढ़ाई के जुनून को साथी छात्र भी जानते थे, इसलिए किसी दिन संदीप छुट्‌टी पर होता तो वे उसकी मदद के लिए टीचर के लेक्चर रिकार्ड करके ला देते थे। ग्रेजुएशन के साथ ही बैंकिंग सेक्टर की तैयारी में जुटे संदीप का एसबीआई जूनियर एसोसिएट (क्लर्क) के पद पर 30 अक्टूबर 2019 में सिलेक्शन हो गया।
जनवरी 2020 में ड्यूटी ज्वाइन करने वाले संदीप ने तैयारी जारी रखी और महज 4 माह बाद ही इलाहाबाद बैंक में पीओ (प्रोबेशनरी ऑफिसर) पद पर सेलेक्शन हो गया। यह बैंक अब इंडियन बैंक में मर्ज हो गया है। 5 अक्टूबर को संदीप ने रेवाड़ी के सेक्टर-4 स्थित बैंक में ज्वाइनिंग भी कर ली है। संदीप अपने पिता बसंत लाल, माँ संतोष देवी और अपने परिवार के साथ ही साथी छात्रों व हेल्पलाइन फाउंडेशन का आभार जताते हैं, जिसने उन्हें आगे बढ़ाने में मदद की।