हरियाणा के करनाल में तेजी से पाँव पसार रहा है एड्स

करनाल : सरकार और एनजीओ के लाख प्रयास के बावजूद एड्स बीमारी के रोगियों की संख्या बढ़ रही है। लोगों में भी इसके प्रति जागरूकता कम है। आंकड़े बताते हैं कि यहां हर साल 200 नये केस सामने आ रहे हैं। गंभीर बात ये है कि ये वो आंकड़ा है जो अस्पताल आते हैं और अपना चैकअप कराते हैं, काफी संख्या में ऐसे लोग भी हैं, जो न ही टेस्ट करा रहे हैं और न ही इलाज ले पा रहे हैं। इसी कारण, हर साल कई मरीजों की मौत भी हो जाती है, जिनका विभाग के पास कोई डाटा नहीं होता। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, इस समय जिले में 563 मरीजों का इलाज चल रहा है।
एड्स की बीमारी ग्रामीण इलाके में अपेक्षाकृत बढ़ी है। इसका कारण अज्ञानता या लापरवाही हो सकती है, लेकिन यह आंकड़ा चौंकाने वाला है। इस समय घरौंडा, असंध ब्लॉक में यह आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। इंद्री के इलाके में भी एचआईवी संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है। वहीं, शहरी इलाकों की बात करें तो यहां से भी हालात चिंताजनक हैं। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, केस बढ़ने के पीछे ट्रक चालक और एक ही सुई का बार बार प्रयोग करना कारण है।
इससे पहले करनाल जिले के एड्स के मरीजों को इलाज के लिए पीजीआई रोहतक जाना पड़ता था, इस समय करनाल में ही मरीजों को इलाज मिल रहा है। पिछले साल लिंक एआरटी सेंटर शुरू किया गया था। करनाल में ही चेकअप और दवा मिलने के कारण मरीजों को काफी राहत मिली है।
सिविल सर्जन डा. योगेश शर्मा का कहना है कि कुछ लोग अज्ञान हैं, तो कुछ लापरवाही की वजह से इसकी जद में आ रहे हैं। एड्स के अधिकतर रोगियों की वजह असुरक्षित यौन संबंध हैं। जागरूक होने के बावजूद लोग लापरवाही करते हैं और इस बीमारी को साथ लगा लेते हैं। इसके लिए सरकार की ओर से एनजीओ के साथ-साथ स्वास्थ्य विभाग की मुहिम चला रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *