निकिता हत्याकांड: फरीदाबाद में हिंसा भड़की, पथराव और तोड़फोड़ के बाद लगाया जाम

-दस पुलिसकर्मियों सहित कई घायल, होटल में की तोड़फोड़, पुलिस को करना पड़ा लाठीचार्ज
फरीदाबाद: निकिता मर्डर केस को लेकर महापंचायत में फैसला लिया गया कि 21 साल की निकिता की हत्या मामले में दोषियों को जल्द से जल्द फांसी की सजा दी जाए। जिसके बाद रविवार को उग्र भीड़ ने फरीदाबाद-बल्लभगढ़ हाईवे को जाम कर दिया है। ये लोग निकिता हत्याकांड में दोषियों को जल्द से जल्द फांसी की सजा देने की मांग कर रहे हैं।
हाईवे जाम करने वाले युवाओं ने एक होटल में तोड़फोड़ की थी। यह होटल संप्रदाय विशेष के व्यक्ति का था। इससे संप्रदाय विशेष के लोग भड़क गए। उन्होंने जाम लगा रहे लोगों पर पथराव कर दिया। इस तरह मामले ने सांप्रदायिक रूप ले लिया।अभी स्थिति क़ाबू में है। पुलिस ने हाईवे किनारे की दुकानों को भी बंद करवाया।
गुरुवार को दोनों आरोपियों तौशीफ और रेहान को कोर्ट में पेश किया गया था। इसके बाद उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। इससे पहले पुलिस ने दोनों को दो दिन की रिमांड पर रखा था। इस दौरान मर्डर में इस्तेमाल हथियार और गाड़ी को बरामद कर लिया गया। साथ ही हथियार देने वाले आरोपी अजरु को नूंह से गिरफ्तार किया था।
निकिता मर्डर केस की जांच करने के लिए पहले ही SIT का गठन किया जा चुका है। गृह मंत्री अनिल विज ने इस मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल (SIT) गठित करने के आदेश दिए थे। पुलिस आयुक्त ओपी सिंह एसीपी क्राइम अनिल के नेतृत्व मे 4 सदस्य टीम का गठन किया है जिसमें सब इंस्पेक्टर रामवीर, ASI कप्तान सिंह और प्रधान सिपाही दिनेश कुमार शामिल हैं।
फरीदाबाद के बल्लभगढ़ में छात्रा निकिता की हत्या को लेकर लोगों का गुस्सा कम नहीं हो रहा है। रविवार को आर्य केंद्रीय सभा गुरुग्राम के पदाधिकारियों ने विरोध प्रदर्शन करते हुए उपायुक्त अमित खत्री के निवास स्थान पर पहुंच ज्ञापन दिया। आर्य केंद्रीय सभा के महामंत्री नरेंद्र तनेजा, पदमचंद्र आर्य सहित अन्य पदाधिकारियों ने कहा इस जघन्य हत्याकांड की जितनी निंदा की जाए कम है। छात्रा पढ़ाई भी करने कालेज नहीं जा सकती। एक विशेष समुदाय के युवकों द्वारा साजिश कर युवतियों को निशाना बनाया जा रहा है। नूंह जिला में कई ऐसे मामले सामने आए। ज्ञापन देने से पहले आर्य समाज के पदाधिकारी जैकबपुरा स्कूल के सामने एकत्र हुए और यहां से पैदल मार्च करते हुए उपायुक्त के निवास पर पहुंचे।
मालूम हो कि बल्लभगढ़ के अग्रवाल कॉलेज के बाहर सोमवार को शाम करीब चार बजे होनहार छात्रा निकिता तोमर की हत्या कर दी गई थी। निकिता, बीकॉम अंतिम वर्ष की छात्रा थी। मुख्य आरोपी तौसीफ और उसके साथी रेहान ने पहले निकिता को अगवा करने की कोशिश की थी और नाकाम होने पर गोली मार दी थी।
उपद्रवियों के ख़िलाफ़ सख़्त एक्शन : पुलिस
निकिता मर्डर केस मे न्याय की मांग की आड़ में करीब 200 प्रदर्शनकारियों के द्वारा दुकानों पर पथराव करने / नेशनल हाईवे जाम करने की कोशीश की गई। रोकने पर असामाजिक तत्वों ने पुलिस पर भी बरसाए पत्थर, पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर भीड़ को किया तितर-बितर। 30 लोगों को राउंडअप किया गया है बाकी और को चिन्हित किया जा रहा है। इनमें से कई फ़रीदाबाद से बाहर के हैं। पूछताछ में ये पता किया है माहौल ख़राब करने की साज़िश के पीछे कौन है। पुलिस उसके खिलाफ भी सख़्त कार्रवाई करेगी। पथराव में दस पुलिसकर्मियों को चोटें आई हैं। उनका मेडिकल करवाया गया है।
डीसीपी बल्लबगढ़ श्री सुमेर सिंह यादव ने कहां की कानून एवं शांति व्यवस्था को बिगाड़ने वालों के साथ पुलिस सख्ती से निपटेगी, इस तरह की अराजकता शहर में बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *