गुरुग्राम में बाजरे की खरीद को मिली रफतार, किसानों को मिलने वाले टोकनों की बढ़ाई गई संख्या

-जिला की चारो मंडियों में अब तकरीबन 900 किसानों को रोजाना दिए जाएंगे टोकन
-अब तक जिला में हुई 16 हजार 398 मीट्रिक टन बाजरे की खरीद
गुरुग्राम : गुरुग्राम जिला की चारो मंडियों में चल रही बाजरा की खरीद को अब पहले की अपेक्षा गति दी गई है। चारो मंडियों में प्रतिदिन किसानों को मिलने वाले टोकनों की संख्या को बढ़ा 900 कर दिया गया है ताकि खरीद प्रक्रिया को रफतार मिल सके।
इस बारे में जानकारी देते हुए उपायुक्त अमित खत्री ने बताया कि मंडियों में आने वाले किसानों को असुविधा ना हो इसके लिए प्रतिदिन जारी किए जाने वाले टोकनों की संख्या को बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने बताया कि फरुखनगर मंडी में जहां पहले 200 से 220 टोकन दिए जा रहे थे वहीं अब रोजाना किसानों को 300 टोकन दिए जा रहे हैं।
इसी प्रकार, हेलीमंडी में भी पहले 250 टोकन प्रतिदिन दिए जा रहे थे अब इनकी संख्या को बढ़ाकर 400 किया गया है। खोड़ मंडी में टोकनों की संख्या को बढ़ाकर 45 तथा सोहना मंडी में 150 टोकन रोजाना दिए जाएंगे।
जिला उपायुक्त अमित खत्री ने कहा कि किसानों से फसलों की खरीदारी सरकार द्वारा निर्धारित मानदंडों के अनुसार ही की जा रही है। जिस प्रकार मंडियों में किसानों से फसलों की खरीदारी की जा रही है उससे किसान पूरी तरह से संतुष्ट है। मंडियों में खरीदारी व्यवस्थित ढंग से की जा रही है। साथ ही कोरोना संक्रमण से बचाव संबंधी आवश्यक सावधानी बरती जा रही है। जिला प्रशासन की ओर से मंडियों को बार-बार सेनिटाइज किया जा रहा है । मंडियों में किसानों की सुविधा का ध्यान रखते हुए बाजरे की खरीद की जा रही है ।
मंडियों में चल रही खरीद के बारे में बताते हुए जिला खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक मोनिका मलिक ने कहा कि सभी मंडियों में बाजरे का खरीद कार्य सुचारू ढंग से चल रहा है। फरुखनगर मंडी, सोहना मंडी, हैली मंडी और खोड़ मंडी में खरीद चल रही है और अब तक कुल 16 हजार 398 मीट्रिक टन बाजरे की खरीद की गई है।
बीते दिन प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने बताया कि फरुखनगर मंडी में गुरुवार को 950 मीट्रिक टन , सोहना मंडी में 392 मीट्रिक टन, हैली मंडी में 880 मीट्रिक टन और खोड़ मंडी में 137 मीट्रिक टन बाजरे की खरीद पूरी हुई। जिसे मिलाकर बीते दिन 2 हजार 359 मेट्रिक टन बाजरे की खरीद हुई।
उन्होंने कहा कि मंडियों में किसानों को किसी प्रकार की परेशानी नहीं आने दी जाएगी और सभी किसानों से फसल का दाना दाना खरीदा जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *