गुरुग्राम पुलिस ने 06 साल पहले गुम हुए बच्चे को परिवार से मिलाया

गुरुग्राम : सैल्टर होम्स में जाकर की जाने वाली कॉऊंसलिंग के दौरान पुलिस टीम ने एक ऐसे बच्चें को ढूंढ निकाला जो अपने नाम के सिवा कुछ नही जानता था और वह दीप उद्यान केयर नरसिंहपुर, गुरुग्राम के नाम से स्थित सैल्टर होम में रह रहा था। पुलिस टीम द्वारा गुमशुदाओं के रिकार्ड के अध्ययन के दौरान इस बच्चें की फोटों से मिलान किया और बच्चें के गुमशुदा होने के स्थान व अभियोग के बारे में जानकारियां एकत्रित की तो पाया कि वह बच्चा वसन्त कुन्ज, दिल्ली से 06 साल पहले लापता हुआ था। जिस समबन्ध में वर्ष – 2014 में थाना वसन्त कुन्ज, दिल्ली में अभियोग भी अंकित मिला। थाना वसन्त कुन्ज, दिल्ली की पुलिस टीम से सम्पर्क किया गया और बच्चें के परिजनों तक गुरुग्राम पुलिस पहूंचने में कामयाब हो गई।
गुमशुदा शाखा, गुरुग्राम की पुलिस टीम ने बच्चें के परिजनों को उसका फोटो दिखाया व उन्हें गुरुग्राम बुलाकर बच्चें की पहचान कराई तो बच्चें के परिजनों ने अपने बच्चें को पहचान लिया तथा बच्चे के पिता रामचरण निवासी जगबीर का फार्म नजदीक ऑयल डिपो, गाँव घिटोरनी, नई दिल्ली मूल निवासी मध्य-प्रदेश ने पुलिस टीम को बतलाया कि इसका बेटा अनुराग, उम्र 03 वर्ष जो वर्ष 2014 में वसन्त कुन्ज, दिल्ली से लापता हो गया था। उन्हें लगता था कि उनका बेटा उन्हें कभी नही मिलेगा। ये अपने बेटे को वापिस मिलने की सभी उम्मीदें छोङ चुके थे। इनका बेटा जब गुम हुआ तब उसकी उम्र 03 वर्ष थी अब 06 साल बाद उनका बेटा पुलिस ने ढूंढकर उन्हें लौटाया है।
06 साल बाद अपने गुमशुदा बेटे अनुराग को वापिस पाकर बच्चें के परिजन बहुत खुश हुए और गुरुग्राम पुलिस द्वारा उनके बच्चें को ढूंढने के लिए किए गए प्रयास को वो स्ल्यूट करते हुए गुरग्राम पुलिस का हार्दिक दिल से धन्यवाद किया। गुरुग्राम पुलिस द्वारा बच्चें के परिजनों द्वारा की गई प्रशंसा को अपनी ड्यूटी समझकर स्वीकार किया व बच्चें के उज्जवल भविष्य की शुभकामाओं के साथ बच्चें को उसके परिजनों को सौंपा।
के.के. राव, पुलिस आयुक्त, गुरुग्राम द्वारा उपरोक्त कामयाबी की प्रशंसा करते हुए गुमशुदा शाखा की पुलिस टीम को व गुमशुदा बच्चे के सुनहरे भविष्य की शुभकामनाएं दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *