बरोदा उपचुनाव : पूर्व विधायक परमेंद्र सिंह ढुल ने भाजपा छोड़ दिया करारा झटका

जींद : हरियाणा के बरोदा विधानसभा सीट पर होने जा रहे उपचुनाव के प्रचार के बीच भाजपा को करारा झटका देते हुए पूर्व विधायक परमेंद्र सिंह ढुल ने मंगलवार को भाजपा को अलविदा कह दिया। इतना ही नहीं, उनके बेटे तथा पार्टी के स्टेट मीडिया पेनलिस्ट रविंद्र सिंह ढुल ने भी भाजपा छोड़ दी है। ढुल ने एडिशनल एडवोकेट जनरल (एएजी) पद से भी त्याग-पत्र दे दिया है। केंद्र सरकार के कृषि से जुड़े तीन नये कानूनों का विरोध करते हुए परमिंद्र व रविंद्र ढुल ने भाजपा छोड़ी है।
जींद स्थित अपने आवास पर सुबह बुलाये गये पत्रकारवार्ता में ढुल ने इसका ऐलान करते हुए कहा कि उन्होंने भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से अपना इस्तीफा दे दिया है और उसे भाजपा प्रदेशाध्यक्ष के पास ईमेल के जरिये भेज भी दिया है। पूर्व विधायक ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा लाये गये 3 कृषि बिलों के विरोध में उन्होंने भाजपा छोड़ी है क्योंकि ये बिल किसान को बर्बाद करने वाले बिल हैं। उन्होंने कहा कि इससे पहले उन्होंने बिलों को लेकर पार्टी प्लेटफार्म, मुख्यमंत्री व प्रदेशाध्यक्ष से भी बात की, लेकिन उनकी बातें केवल ‘जुमला’ ही थी। अब वे किसान वर्ग के हित के लिए किसानों के साथ मिलकर संघर्ष करेंगे।
उन्होंने कहा कि नये कृषि बिलों के माध्यम से भाजपा सरकार पे किसानों को पूंजीपतियों के हाथ में सौंपने का रास्ता साफ कर दिया है। बीजेपी जेजेपी पर वादा खिलाफी का आरोप लगाते हुए ढुल ने कहा कि 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करने का दावा करने वाली भाजपा सरकार किसान की फसल को एमएसपी पर खरीदने की गारंटी ही नहीं दे रही। उन्होंने कहा आज दीनबंधु सर छोटू राम की आत्मा भी दुखी होगी, क्योंकि आज धरतीपुत्र किसान रो रहा है। अब किसानों की लड़ाई लड़ूंगा। आज मैं किसान के साथ खड़ा हूँ । अगला राजनैतिक कदम जुलाना क्षेत्र में अपने कार्यकर्ताओं से सलाह मशविरा करके ही उठाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *