कड़े पहरे में शांतिपूर्वक हुआ रेल रोको आंदोलन !

फर्रुखनगर (नरेश शर्मा) : गुरुवार को संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा खंड के गांव पातली हाजीपुर स्टेशन पर शांति पूर्व रेल रोको आंदोलन किया। जिसमें जिला गुरुग्राम व ग्रामीण आंचल के किसानों ने हिस्सा लिया। आंदौलन के दौरान किसी प्रकार की कोई अप्रिय घटना घटित न हो इसके लिए एसीपी बीरसिंह, डयूटी मजिस्ट्रेट क्रीति नायब तहसीलदार हरसरु, थाना प्रभारी फर्रुखनगर सुरेश कुमार फौगाट, सैक्टर 37 थाना प्रभारी शैलेंद्र सिंह, जीआरपी गुरुग्राम इंचार्ज भूपेंद्र सिंह के नेतृत्व में जिला पुलिस पटौदी, सैक्टर 37, पटौदी, बिलासपुर , फर्रुखनगर थाने के करीब 206 जवान और जीआपी, आरपीएफ के 25 जवानों ने पहले की चाकचौंबंद सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध कर लिए थे।
पुलिस ने हर स्थिति से निपटने के लिए टियर गैस, वाटर कैनन, एंटी राईट्रस व्हीकल, एम्बेलेँस तक तैनात कर रखी थी। रेवाडी से दिल्ली के बीच रेलवे लाइन पर पडने वाले रेलवे स्टेशनों बसेई धनकोट, गढ़ी हरसरु, पातली, ताजनगर, जाटौला आदि स्टेशनों पर पुलिस की प्लाटून तैनात करके गस्त जारी रखी। इलाके के किसानों ने रेल की पटरी पर बैठकर सरकार विरोधी नारे लगाए और जमकर कोसा । उन्होंने तीन काले कानून वापिस लेने के लिए सरकार से पुरजोर मांग करते हुए मिडिया कर्मियों को भी मोदी मिडिया तक कह डाला। बावजूद इसके भी मिडियाकर्मी अपने काम में जुटे रहे। गांव पातली व आसपास के ग्रामीणों ने किसानों की आवाभगत के लिए पानी, चाय और पकौडे खिला कर उनका साथ दिया।
वहीं रेल विभाग द्वारा रेलवे स्टेशन पर किसानों को पहुंचने से रोकने के लिए पटरियों पर मालगाडिया खडी करवा दी। ताकि किसान स्टेशन तक ना पहुंच सके। स्टेशन पर पहुंचे किसानों ने रेल के डब्बों के बीच फांसलों को चढ़ कर व कूद स्टेशन तक कूच किया। कई किसानों को रेल के जोड कूदने में दिक्कत हुई तो साथियों ने उन्हे सहारा देकर धरना स्थल तक पहुंचाने में मदद की।
इस मौके पर अधिवक्ता संतोख सिंह, पंडित राजबीर सैहदपुर, गजे सिंह कबलाना, चौधरी धर्मपाल गुरावलिया, ईश्वर सिंह पहलवान, कर्मबीर सिंह धनखड, सुभाष सरपंच, अटलवीर कटारिया, रामफल आदि ने कहा कि केंद्र सरकार किसान विरोधी है। उन्होंने तीन काले कानून पारित करके किसानों को दबाने और कुचलने का कार्य किया है। किसान मोदी सरकार को कभी माफ नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि देश का किसान ही है जिसने विश्वव्यापी कोरोना काल में देश को संकट के दौर से बाहर निकालने का कार्य किया था। अगर किसानों की गेंहू , जौ, सरसों की फसल उस संकट के दौर में तैयार नहीं होती तो देश की जनता को किसी भी सूरत में समान्य दर पर खाने के लिए अन्न, सब्जी, फल, दूध जैसी जरुरी सुविधा नहीं मुहिया होती और देश में कालाबाजारी का ऐसा तांडव होता की सब व्यवस्था चरमारा जाती। भारत किसानों, कमेरो और जवानों का देश है। किसान को दिखावे के रुप में अन्नदाता का दर्जा दिया गया है। सम्मान के लिए आज किसान आंदौलन करने पर मजबूर है। केंद्र सरकार को किसानों के दुख दर्ज की कोई परवाह नहीं है। किसानों की शहादत की सहादत से भी सरकार का दिल नहीं पसीज रहा है। 83 दिन हो गए है किसान आंदौलन को चलते लेकिन देश के प्रधानमंत्री ने आज तक किसानों का हाल तक नहीं पूछा है। जिससे साफ छलकता है कि बीजेपी पूजीं पतियों की और किसान विरोधी सरकार है।