दिल्ली पुलिस के सिपाही और पार्टनर्स से परेशान होकर प्रॉपर्टी डीलर ने लगा ली फांसी !

गुरुग्राम: यहाँ के एक प्रापर्टी डीलर गांव नाथुपुर निवासी जोगेंद्र यादव उर्फ जुगनु ने चार फरवरी को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। दो दिन बाद मृतक की पत्नी मंजू यादव ने डीएलएफ फेज-तीन थाने में शिकायत देकर प्रापर्टी कारोबार से ही जुड़़े मनोज कुमार, विनोद नम्बरदार, जगवीर सिंह, विक्रम डबास एवं सर्वजीत सहित पांच लोगों के खिलाफ आत्महत्या करने के लिए मजबूर करने का आरोप लगाया है। इस आधार पर मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी गई है। मुख्य आरोपी विक्रम डबास बताया गया है जो दिल्ली पुलिस का सिपाही है और एक बड़े न्यायिक अधिकारी का गनमैन के तौर पर दिल्ली में तैनात है |
शिकायत के मुताबिक जोगेंद्र यादव ने वर्ष 2015 के दौरान मनोज एवं जगवीर सिंह के साथ मिलकर एक कंपनी बनाई थी। तीनों कंपनी में निदेशक थे। कुछ समय बाद तीनों ने प्रेमी नेगी एवं सुरेश नेगी नामक दो लोगों के माध्यम से देहरादून में कुछ जमीन खरीदी थी। उसमें विला बनाने का प्लान था, लेकिन जोगेंद्र को बिना बताए मनोज एवं जगवीर ने विनोद नम्बरदार की मिलीभगत से विक्रम डबास नामक व्यक्ति को अपने हिस्से की जमीन बेच दी थी। इस वजह से तीनों के बीच विवाद शुरू हो गया था। दोनों चाहते थे कि जोगेंद्र भी अपने हिस्से की जमीन विक्रम डबास के नाम कर दे। इसके लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया था।
इधर, सर्वजीत नामक व्यक्ति के साथ भी जोगेंद्र यादव कारोबार कर रहे थे, लेकिन घाटा हो रहा था। बाद में पता चला कि सरबजीत, मनोज, जगबीर, विक्रम डबास व एक नम्बरदार आपस में मिले हुए हैं। सभी जोगेंद्र को मानसिक रूप से परेशान कर रहे थे। इसी परेशानी की वजह से उन्होंने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। जांच अधिकारी सब इंस्पेक्टर रामनिवास ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है।