किसानों के सर्मथन में ट्रैक्टर मार्च रैली निकाली

फर्रुखनगर (नरेश शर्मा) : कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर डटे किसानों के सर्मथन में फर्रुखनगर क्षेत्र के सैंकडों किसानों ने हाथों में किसान यूनियन का ध्वज थामे ट्रैक्टर मार्च रैली निकाली और करीब दो घंटे तक पातली गांव की सीमा क्षेत्र में केएमपी सुपर एक्सप्रेस-वे पर शांति पूर्वक धरना प्रर्दशन किया। किसानों ने सरकार विरोधी नारे लगाये। तथा सरकार को जमकर कोसा। धरने के उपरांत किसान ट्रैक्टरों पर बैठ कर पलवल धरना स्थल की और रवाना हो गए। ट्रैक्टर मार्च रैली व धरना प्रर्दशन के दौरान किसान रोड जाम ना कर दे इससे पहले ही पुलिस टीम मौके पर पहुंच गई थी। यातायात व्यवस्था सुचारु रुप से चली।
इस मौके पर दोहली संर्घष समिति के संस्थापक कृष्ण पंडित पातली, चेयरमैन राजबीर शर्मा सैहदपुर, धर्मपाल प्रधान पातली, किसान नेता राव महेंद्र सिंह पूर्व सरपंच डाबोदा, किसान नेता चौधरी ईश्वर पहलवान, पूर्व निगम पार्षद अटलवीर कटारिया, कंवर सिंह, खेमराम लम्बरदार, राव भोजराज खैंटावास, नहार सिंह, राव धर्मसिंह माजरी, चौधरी दिलबाग सिंह, होशियार सिंह, राम भगत, तेजपाल, अनिल लम्बरदार, बालकिशन, नरेश कुमार पातली, जयपाल, मूलचंद, राजपाल लम्बरदार, सुनील कुमार, मातू राम आदि किसानों ने किसान आंदौलन का सर्मथन करते हुए कहा कि सरकार के विरुद्ध अब जिला गुरुग्राम के किसान भी लाम्बंद होने लगे है। किसान ट्रैकटर मार्च में पूरे प्रदेश से एकत्रित हो रहे किसान इस बात का प्रतीक है कि सरकार किसानों के साथ किसान बिल पारित करके कुठाराघात कर रही है। प्रदेश ही नहीं पूरे देश के किसानों में सरकार के प्रति रोष बना हुआ है। उन्होंने बताया कि एक तरफ तो सरकार किसानों को अन्नदाता का दर्जा देती है और दूसरी तरफ काला कानून पास करके उन्हें धरना प्रर्दशन, आत्म हत्या के लिए मजबूर कर रही है। कोरोना काल में अगर किसान के खेतों में गेंहू , सरसों, मौसमी सब्जियों की फसल तैयार नहीं होती तो देश के हालात इसके विपरित होते। मार्किट में अन्न, व अन्य खाद्य सामग्री की काला बाजारी होती है। लोगों को अन्न के दानों के भी लाले पड़ जाते। सरकार धरती पुत्रों को कैसे इस कडकती ठंड में धरने पर मरने के लिए छोड सकती है। कुछ स्वार्थी लोग ओच्छी राजनीति करके किसानो में फूट डालने के कार्य में जुटे हुए है। लेकिन आज किसान अपने अच्छे बुरे को भली प्रकार से जानता है वह किसी के बहकावे में ना आकर सरकार के किसान विरोधी काले कानून के विरोध में बैठे किसानों के साथ खडे है।