मां प्रकृति फाउंडेशन ने हजारों लोगों के बीच मुफ्त में बांटे औषधीय पौधे !

-लोगों को प्रकृति से जोडऩे के लिए गढ़ी हरसरू में बनेगा मां प्रकृति विलेज
गुरुग्राम। नव वर्ष के मौके पर मां प्रकृति फाउंडेशन ने भारत को प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए राजेन्द्र पार्क में हजारों लोगों के बीच मुफ्त में औषधीय पौधों का वितरण किया। इस मौके पर भंडारे का भी आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में नूगा बेस्ट हेल्थ सेंटर गुरुग्राम की पूरी टीम ने भी बढ़ चढ़ कर भाग लिया। पौधा वितरण कार्यक्रम का नेतृत्व मां प्रकृति फाउंडेशन के संस्थापक दिलीप कुमार शर्मा एवं उनकी टीम ने किया। औषधीय पौधों में मुख्य रूप से तुलसी, एलोवेरा, पारिजात पुष्प एवं कढ़ी पत्ता यानी मीठे नीम के पौधे बांटे गए।
इस मौके पर लोगों को संबोधित करते हुए दिलीप कुमार शर्मा ने कहा कि आज हम प्रकृति से दूर होते जा रहे हैं जिसके परिणाम स्वरूप हम असमय ही बीमार पड़ जाते हैं और कई तरह के वायरस की चपेट में आ जाते हैं। कोरोना वायरस भी एक घातक वायरस है जो शरीर के इम्युनिटी सिस्टम को कमजोर कर देता है। उन्होंने बताया कि बड़े पैमाने पर लोगों को प्रकृति से जोडऩे के लिए देश के कई क्षेत्रों में मां प्रकृति फाउंडेशन ग्राम बनाने की भी योजना है जिसकी शुरुआत आगामी 14 जनवरी को गढ़ी हसरू से की जाएगी। इसके अलावा हिमालय की गोद में वनौषधी ग्राम बनाने की भी योजना है।
दिलीप शर्मा ने बताया कि मां प्रकृति फाउंडेशन की ओर से आओ भारत में भारत को ढ़ूढे मुहीम भी चलायी जा रही है। इस मुहीम के तहत जल्द ही काश्मीर से कन्याकुमारी तक यात्रा निकाली जाएगी।
पौधा वितरण व भंडारे कार्यक्रम को सफल बनाने में मां प्रकृति फाउंडेशन के संस्थापक दिलीप कुमार शर्मा, कमलेश कुमार, चरणजीत सिंह, हेमलता डोगरा, अशोक कुमार, जतीन वत्रा, परवेज आलम, दीपक डोगरा, अमित शर्मा, चारू वत्रा, ऋतु शर्मा, अनिता शर्मा, किरण यादव एवं नूगा बेस्ट के संचालक विनोद सिंह व निशा वशिष्ठ ने अपना सहयोग दिया।