कांग्रेस में नही है नेतृत्व का कोई संकट : कैप्टेन अजय सिंह

गुरुग्राम : राज्यसभा सांसद गुलाम नबी आजाद द्वारा कांग्रेस पार्टी के नेतृत्व के बारे में सार्वजनिक ब्यान देने की खुल कर आलोचना हो रही है। हरियाणा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व वित्त मंत्री कैप्टेन अजय सिंह यादव ने कहा कि आजाद साहब को पार्टी के आंतरिक मुद्दे को मीडिया में नहीं उछालना चाहिए, इससे देश भर के कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं की भावनाओं को ठेस पंहूचती है। उन्होंने कहा कि दूसरों पर आरोप लगाने से पहले अपने गिरेबान में भी झांकना चाहिए। कांग्रेस पार्टी ने आजाद साहब को जब उत्तर प्रदेश और हरियाणा जैसे प्रदेशों का प्रभारी बनाया था, तब उन्होंने प्रदेश में पार्टी के लिए क्या किया। हरियाणा के प्रभारी रहते हुए लोकसभा व विधानसभा चुनाव हुए तब उन्होंने प्रदेश में जिला व ब्लॉक स्तर पर अधिकारी क्यों नही नियुक्त किए, जिसका खामियाजा प्रदेश कांग्रेस कमेटी को झेलना पडा था।
कैप्टेन अजय सिंह ने कहा कि गुलाम नबी आजाद जी ने 1973 में भलस्वा में ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के सचिव के रूप में राजनीतिक मैदान में प्रवेश किया था। उसके बाद कांग्रेस पार्टी ने उनको युवा कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष नियुक्त किया गया, 1980 में महाराष्ट्र से लोकसभा की टिकट देकर सांसद बनवाया, 1982 में कानून,न्याय और कंपनी मामलों के केंद्रीय मंत्री बनाया, वर्ष 2005 में जम्मु और कश्मीर का मुख्यमंत्री बनाया गया। उसके बाद उनको राज्यसभा सांसद बनाया। इस प्रकार कांग्रेस पार्टी ने उनका पूरा सम्मान रखा है। उसके बावजूद आजाद साहब एक दिन भी एआईसीसी कार्यालय में नही बैठते। उनसे मिलने वाले कार्यकर्ताओं को मायूस होकर वापस जाना पडता है। बिहार चुनाव में उनको स्टार प्रचारक बनाया गया, इसके बावजूद भी वे एक दिन भी बिहार चुनाव में नही गए। श्री यादव ने कहा कि कांग्रेस पार्टी पर आरोप लगाकर गुलाम नबी आजाद अपनी कमी छुपाना चाहते हैं। कैप्टेन अजय सिंह ने कहा कि आजाद साहब जब युथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे तो कहा करते थे कि युथ कांग्रेस में चुनाव नही होना चाहिए और अब बोल रहे हैं कि प्रदेशाध्यक्ष और जिलाध्यक्ष के भी चुनाव होना चाहिए। इसलिए पहले गुलाम साहब सोच ले कि वो चाहते क्या हैं। श्री यादव ने कहा कि आजाद साहब पार्टी पर दबाव बनाकर फिर से राज्यसभा सांसद बनना चाहते हैं। दूसरी तरफ कपिल सिब्बल भी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व पर आरोप लगा रहे हैं जो कि स्वयं जमीनी स्तर पर कुछ नही हैं।
कैप्टेन अजय सिंह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी में नेतृत्व का कोई संकट नही है। आदरणीय सोनिया गांधी जी और आदरणीय राहुल गांधी जी का कोई भी मुकाबला नही कर सकता है। 2004 में सोनिया गांधी जी के कुशल नेतृत्व में यूपीए सरकार का गठन हुआ था। हर बार कांग्रेस नेताओं ने पार्टी नेतृत्व में दृढ विश्वास दिखाया है और इसीलिए हर संकट के बाद कांग्रेस पार्टी मजबूत होकर उभरी है, इस बार भी पार्टी दोबारा से उभरेगी। श्री यादव ने कहा कि कांग्रेस एकमात्र ऐसी पार्टी है जो इस राष्ट्र को एकजुट रख सकती है और इसे व्यापक विकास के रास्ते पर आगे ले जा सकती है। हम इस समय को भी दूर करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *