निकिता हत्याकांड : अपहरण मामले में जांच के दायरे में आये कई पुलिस वाले

फरीदाबाद : निकिता हत्याकांड के बाद उसके दो साल पहले हुए अपहरण केस की जांच दोबारा शुरू होने से तत्कालीन पुलिसकर्मियों की धड़कन बढ़ गई है। अपहरण केस की नए सिरे से जांच के आदेश पुलिस को पहले ही मिल चुके हैं। आरोपी तौसीफ को ट्रांजिट रिमांड पर लेने के लिए भी पुलिस को 23 नवंबर की तारीख मिली है।
जांच शुरू होने के बाद यदि तत्कालीन पुलिसकर्मियों की लापरवाही सामने आई तो कई पर गाज गिरनी तय है। एसआईटी ने तौसीफ को रिमांड पर लेने से पहले उससे पूछे जाने वाले सवालों की सूची तैयार कर ली है। एसआईटी अदालत से करीब चार दिन के रिमांड की मांग सकती है। इस दौरान तौसीफ से कई बातों को लेकर पूछताछ होगी। इसमें निकिता के अपहरण में इस्तेमाल की गई गाड़ी, मोबाइल और यदि हथियार था तो वो भी बरामद किया जाएगा। जांच टीम का मानना है कि अपहरण में हथियार का इस्तेमाल किया गया होगा, क्योंकि इस बार भी तौसीफ हथियार के बल पर अपहरण करने आया था।
इसके साथ ही तौसीफ निकिता को अपहरण के बाद कहां लेकर गया उस जगह की भी पुष्टि की जाएगी। शुरुआती पूछताछ में तौसीफ ने कबूला था कि वह निकिता को मथुरा लेकर गया था। ऐसे में पुलिस पुष्टि के लिए उसे मथुरा भी ले जा सकती है, लेकिन इसमें सबसे अहम बात यह होगी कि उस समय इस पूरे मामले को किसके दबाव में रफा-दफा किया गया था।
जांच में पुलिस तत्कालीन थाना प्रभारी व केस के जांच अधिकारी को भी शामिल करेगी। निकिता का परिवार कई बार यह आरोप लगा चुका है कि आरोपी एक राजनीतिक व रसूखदार परिवार से संबंध रखता है। ऐसे में मुमकिन है कि किसी राजनेता का भी फैसला कराने में दखल रहा हो। सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता पहले ही पुलिस आयुक्त को पत्र लिखकर तौसीफ की बहन के ससुर व तत्कालीन एसीपी एनआईटी साकिर हुसैन को जांच में शामिल करने की मांग कर चुके हैं।
ऐसे में कई पुलिस कर्मियों की दिल की धड़कन बढ़ चुकी है। असल में किसी को अंदाजा भी नहीं रहा होगा कि अपहरण के फैसले के दो साल बाद बात हत्या तक पहुंच जाएगी और केस की दोबारा से जांच भी होगी। सोमवार को पुलिस तौसीफ को रिमांड पर लेकर जांच शुरू करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *