बरोदा उपचुनाव : कपूर-नरवाल के फ़ैसले से बरोदा ही नहीं, पूरे हरियाणा में उत्साह की लहर : भूपेंद्र सिंह हुड्डा

-एकतरफा हुई बरोदा की लड़ाई, कांग्रेस उम्मीदवार के समर्थन में निर्दलीय प्रत्याशी डॉ. कपूर नरवाल ने वापिस लिया पर्चा
-भूपेंद्र सिंह हुड्डा और दीपेंद्र हुड्डा की मौजूदगी में किया समर्थन का ऐलान
गोहाना: बरोदा से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ रहे डॉ. कपूर नरवाल ने कांग्रेस के समर्थन में अपना पर्चा वापस ले लिया है। पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व को स्वीकार करते हुए कपूर नरवाल ने इन्दुराज भालू के समर्थन का ऐलान किया। महम से निर्दलीय विधायक बलराज कुंडू और कपूर नरवाल के समर्थन में पर्चा वापस लेने वाले निर्दलीय प्रत्याशी जोगिंदर मोर ने भी बीजेपी के ख़िलाफ़ इस लड़ाई में भूपेंद्र सिंह हुड्डा के समर्थन का ऐलान किया। सभी ने एक सुर में कहा कि हरियाणा के बेहतर भविष्य और बीजेपी को सत्ता से बाहर करने के लिए वो इस लड़ाई में भूपेंद्र सिंह हुड्डा के साथ हैं।
इस मौके पर कपूर नरवाल ने कहा कि उन्होंने बरोदा के मान, इलाके के सम्मान और हरियाणा में परिवर्तन के लिए यह फ़ैसला लिया है। उन्हें उम्मीद है कि भूपेंद्र सिंह हुड्डा इस लड़ाई को अंजाम तक पहुंचाएंगे और बीजेपी को सत्ता से बाहर करने का काम करेंगे। बरोदा से इस परिवर्तन की शुरुआत होगी। निर्दलीय विधायक बलराज कुंडू ने भी बीजेपी को सत्ता से बाहर करने की लड़ाई में भूपेंद्र सिंह हुड्डा के समर्थन का एलान किया। उन्होंने कहा कि आज पूरा हरियाणा बरोदा के तरफ उम्मीद भारी नज़रों से देख रहा है। इसलिए इस चुनाव में सिर्फ बीजेपी की हार नहीं, बल्कि ज़मानत ज़ब्त होनी चाहिए। वो इस लड़ाई में भूपेंद्र सिंह हुड्डा और दीपेंद्र सिंह हुड्डा के साथ खड़े हैं। इस मौके पर जोगिंदर मोर, कई किसान संगठनों और 36 बिरादरी के मौजिज लोगों ने भी भूपेंद्र सिंह हुड्डा के समर्थन का ऐलान किया।
जनसभा को संबोधित करते हुए भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कपूर नरवाल के फैसले का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि सिर्फ बरोदा ही नहीं बल्कि पूरे हरियाणा की जनता कपूर नरवाल के इस त्याग का सम्मान करती है। उनके इस फैसले से पूरे हल्के और हरियाणा में उत्साह की लहर है। डॉ. नरवाल के साथ आने के बाद अब बरोदा की लड़ाई एकतरफा हो गई है। यहां से परिवर्तन की जो शुरुआत होगी वह पूरे हरियाणा में पहुंचेगी। सभा में मौजूद लोगों को भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने भरोसा दिलाया कि जनता ने उन्हें जो परिवर्तन की गाड़ी का स्टेयरिंग सौंपा है, उस स्टेयरिंग को कोई नहीं छीन सकता। हुड्डा ने कहा, “जनता का साथ मेरी ढाल है। आप मेरी पीठ पर वार मत होने देना, छाती पर होने वाले वार का सामना करने में मैं पूरी तरह सक्षम हूं।” उन्होंने आगे कहा कि 6 साल में हरियाणा को विकास की पटरी से उतारने, कर्ज में डुबोने, बेरोजगारी में नंबर एक बनाने, अपराध में टॉप पर पहुंचाने, युवाओं को नशे और अपराध की तरफ धकेलने वाली सरकार को उखाड़ फेंकने का वक़्त आ गया। इसके लिए जो तमाम लोग साथ आएं हैं, उन सभी का स्वागत है।
राज्यसभा सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने इस मौके पर कहा कि जैसे ही बरोदा में वोटिंग की गिनती खत्म होगी, वैसे ही बीजेपी जेजेपी गठबंधन सरकार की उल्टी गिनती शुरू हो जाएगी। प्रदेश की जनता अब परिवर्तन की मांग कर रही हैं। क्योंकि इस सरकार ने प्रदेश के 6 साल बर्बाद कर दिए हैं और सूबे को कंगाली की कगार पर लाकर छोड़ दिया है। इसलिए बरोदा की लड़ाई सिर्फ कांग्रेस बनाम बीजेपी, हुड्डा बनाम खट्टर या इंदुराज बनाम योगेश्वर दत्त नहीं है, बल्कि यह चुनाव हरियाणा के भविष्य को तय करने का चुनाव है। इस चुनाव में बरोदा की जनता को तय करना है कि वह बीजेपी-जेजेपी गठबंधन सरकार को हरियाणा में बनाए रखना चाहती है या इसे उखाड़ फेंकना चाहती है। ये उपचुनाव जनता के लिए इस सरकार की जड़ें उखाड़ने का मौक़ा लेकर आया है। ये मौक़ा है कुरुक्षेत्र में किसानों को लहुलुहान करने वाली सरकार से बदला लेने का। ये मौक़ा है झूठे मुक़दमों में किसानों को फंसाकर जेल भेजने वाली तानाशाही सरकार को सबक सिखाने का। ये मौक़ा है मंडियों में किसानों की फसल लूटने वालों से हिसाब मांगने का। ये मौक़ा है किसानों के साथ धान, चावल, सरसों और बाजरा ख़रीद में घोटाला करने वालों वोट की चोट मारने का। इस मौके पर गोहाना से विधायक जगबीर मलिक, पूर्व केंद्रीय मंत्री जयप्रकाश, कई कांग्रेस विधायक, प्रोफेसर वीरेंद्र सिंह और कांग्रेस में टिकट के लिए आवेदन करने वाले लगभग सभी नेता भी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *