प्रधानमंत्री के वोकल फॉर लोकल के फार्मूले की व्‍यवहारिक व्‍याख्‍या है “रन वे टू स्किल्‍ड इंडिया”

-डॉ. डार्ली ओ कोशी की नई किताब ‘रन वे टू स्किल्‍ड इंडिया’ का लोकर्पण
-रोजगार सृजन और कुशल भारत का सूत्र वाक्‍य है रन यानी रिस्‍किलिंग अप स्किलिंग न्‍यू स्किलिंग
नई दिल्‍ली : कोविड के बाद उससे उपजे आर्थिक दुष्‍परिणामों को पूरे देश के ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार सृजन के माध्‍यम से दुरुस्‍त किया जा सकता है। इसके लिए देश के विभिन्‍न हिस्‍सों में बिखरे हस्‍तशिल्पियों, कारीगरों के कौशल विकास के साथ-साथ उन्‍हें मांग के अनुरूप नए तरीके अपनाने और उन्‍हें बाजार के जोड़ने की जरूरत है। कोविड काल में ई कॉमर्स के विस्‍तार ने इसे आसान कर दिया है। अपने देश के विभिन्‍न हिस्‍सों में जिस तरह की खास चीजें बनती हैं, और कारीगर केवल कौशल से नहीं बल्कि भावनाओं को जोड़ अनोखी चीजें तैयार करते हैं, उन्‍हें तकनीक और मार्केटिंग के साथ जोड़कर काफी मात्रा में उनके घर ही रोजगार सृजन और परिणाम स्‍वरूप देश के आर्थिक विकास को दिशा दी जा सकती है। यह खास बात चीन जैसे देश के साथ नहीं और यहीं संयोजन भारत को कुशलता की वैश्विक राजधानी में बदल सकता है।
द अपैरल ट्रेनिंग एंड डिजाइन सेंटर के महानिदेशक और सीईओ डॉ. डार्ली ओ कोशी ने नई किताब ‘रन वे टू स्किल्‍ड इंडिया’ देश विकास के गो वोकल अबाउट लोकल के व्‍यवहारिक पक्ष की व्‍याख्‍या करता नजर आता है। डॉ. कोशी ने इसके पहले इस विषय पर ‘’इंडियन डिजाइन एज’’ शीर्षक किताब लिखी थी, नई किताब उसका सिक्‍वल है। डॉ. कोशी ने इन विषयों पर अबतक छह किताबें लिख चुके हैं। शुक्रवार को नई दिल्‍ली स्थित बीकानेर हाउस में आयोजित एक समारोह में उनकी नई किताब ‘’ रन वे टू स्किल्‍ड इंडिया’’ का लोकार्पण लोकार्पण भारतीय सांस्‍कृतिक संबंध परिषद् (आईसीसीआर)के अध्‍यक्ष सांसद डॉ. विनय सहस्‍त्रबुद्धे ने सांसद व पूर्व केंद्रीय पर्यटन और संस्‍कृति राज्‍यमंत्री श्री अल्‍फोंस कन्‍ननथनम की उपस्थिति में किया। इस मौके पर विशिष्ट अतिथि के तौर पर उपस्थित यूपी इंस्‍टीट्यूट ऑफ डिजाइन की अध्‍यक्ष सुश्री शिप्रा शुक्‍ला, एनआईएसटीआई के अध्‍यक्ष डॉ. विनोद शन्‍भाग ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया।
रिस्‍किलिंग अप स्किलिंग और न्‍यू स्‍किलिंग को अपना कर हो सकेगा परिवर्तन
इस किताब की व्‍याख्‍या करते हुए डॉ. कोशी ने कहा कि पुस्‍तक का नाम ‘’रन वे टू स्किल्‍ड इंडिया ‘’ दर्शाता है कि कुशल भारत के निर्माण के लिए कई संभावित रास्‍ते हैं जिसका लक्ष्‍य देश को कुशलता की वैश्‍विक राजधानी बनाना है। रिस्किलिंग, अप स्किलिंग और न्‍यू स्‍किलिंग यानी आरयूएन रन को अपना कर विकास और रोजगार की जमीन तैयार हो सकती है। विशेष तौर पर देश के 35.6 करोड़ युवाओं और विभिन्‍न क्षेत्रों में उपलब्‍ध 45 करोड़ श्रम शक्ति के लिए रोजगार सृजन हो सकता है।
2009 की नीतियों के बाद कुशलता के प्रभाव को प्रतिशत के पैमाने में रखे तो इस काल में कुशलता में दो से पांच प्रतिशत का इजाफा दिखता है। हालांकि अभी इसे लंबी दूरी तय करनी है, जिसमें पर्याप्‍त संख्‍या में प्रशिक्षित उम्‍मीदवारों को लेकर उच्‍च उत्‍पादकता और वैश्‍विक मानदंडों को पूरा करने के लक्ष्‍य तक पहुंचा जा सके।
वर्ष 2009 में केंद्र सरकार ने 50 करोड़ युवाओं और महिलाओं को प्रशिक्षित करने का लक्ष्‍य निर्धारित किया था और वर्ष 2015 में सरकार नेशनल स्किल मिशन लेकर आई और इसके लिए एक अलग से राष्‍ट्रीय कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय( एमएसडीई) बनाया गया। विभिन्‍न एजेंसियों की सहायता से अबतक 7 – 8 करोड़ युवाओं को प्रशिक्षण दिया जा चुका है। वर्ष 2020 में कोविड महामारी के कारण बनी परिस्थितियों के बाद यह जरूरी हो गया है कि ‘’गो वोकल अबाउट लोकल ‘’ यानी स्‍थानीय उत्‍पादों पर मुखर होकर इस पर मजबूत कदम उठाए जाएं, ताकि युवाओं खास तौर पर ग्रामीण क्षेत्र के युवाओं को रोजगार मिल सके। देश के प्रधानमंत्री में इस संदेश में यही बात कही गई है।
किताब आईक्‍यू कोड से सुन सकते हैं इस किताब पर विशेषज्ञों का विश्‍लेषण
गत 18 दिसंबर 2020 को इस पुस्‍तक पर आधारित प्री लॉन्‍च वेबिनार का भी आयोजन किया गया था। इस वेबिनार में वस्‍त्र, परिधान और संबंधित उद्योगों को लेकर विशेषज्ञों ने भविष्‍य में इस क्षेत्र में कौशल विकास और रोजगार को लेकर चर्चा की थी। इसके बाद 15 जनवरी 2021 को इस पुस्‍तक में वर्णित विषयों को लेकर एक वर्चुअल राउंड टेबल परिचर्चा का आयोजन किया गया, जिसमें इस क्षेत्र के विशेषज्ञों ने किताब की सामग्री पर अपनी-अपनी राय रखी। इस किताब में पाठकों के साथ संवाद बनाने के लिए एक क्‍यू आर कोड शामिल किया गया है। किताब में छपे क्‍यू आर कोड को लिंक करके किताब पर आयोजित राउंड टेबल परिचर्चा को सुना जा सकता है। जिसमें कई विशेषज्ञों के विचार हैं। इसमें देश के पूर्व कैबिनेट सचिव अजीत सेठ, मणिपाल ग्‍लोबल एजुकेशन के अध्‍यक्ष मोहन दास पाई, ओडिशा स्किल डेवलपमेंट अथॉरिटी (ओएसडीए) के अध्‍यक्ष डा. सुब्रतो बागची, प्रशासनिक सुधार विभाग के अतिरिक्‍त सचिव, आईएएस वी. श्रीनिवास, सीएमएआई के चीफ मेंटर राहुल मेहता, राष्‍ट्रीय कौशल विकास निगम ( एनएसडीसी) की शिक्षाविद् डॉ. सबीना मथायस ने अपनी बहुआयामी विशेषज्ञ टिप्‍पणियों और विचारों से ‘कुशल भारत ’ के सपने को साकार करने को लेकर बहुमूल्‍य सुझाव दिए हैं।