सोहना में अवैध फार्म हाउसों पर चला पीला पंजा !

सोहना : सोहना नगरपरिषद विभाग द्वारा अरावली पहाड़ी क्षेत्र में स्थापित अवैध फार्म हाउसों को पीला पंजा चलाकर ध्वस्त कर डाला है। जिनकी संख्या करीब डेढ़ दर्जन है। जिनको फार्म मालिकों ने अवैध रूप से निर्मित किया हुआ था। विभाग ने ऐसे फार्म हाउसों की चारदीवारी, टीन शेड, कमरे आदि को तोड़ दिया है। परिषद विभाग ने उक्त कार्यवाही एनजीटी के आदेशों को अमलीजामा पहनाते हुए की है। वहीं विभाग द्वारा की गई तोड़फोड़ के चलते फार्म हाउस मालिकों में हड़कम्प व बेचैनी व्याप्त है। जो वर्षों से अरावली पहाड़ी भूमि पर निर्माण करके सुख भोग रहे थे। विभागीय अधिकारियों का कहना है कि उक्त कार्यवाही नियमित रूप से जारी रहेगी।
बुधवार को सोहना नगरपरिषद विभाग ने अपना कड़ा रुख दिखलाते हुए रायसीना अरावली पहाड़ी क्षेत्र में बनाये गए करीब डेढ़ दर्जन अवैध फार्म हाउसों को तोड़ डाला है। विभाग ने उक्त फार्मों की चारदीवारी, टीन शेड, कमरे, दीवार आदि को ध्वस्त कर दिया है। विभाग की टीम जैसे ही पूरे लाव लश्कर के साथ क्षेत्र में पहुँची फॉर्म मालिकों में हड़कम्प मच गया। लोग सिफारिश कराने के लिए अपने आकाओं को फ़ोन खड़खड़ाने लगे। किन्तु विभाग अधिकारियों ने किसी की भी एक न सुनी ओर अपने कार्य को करते रहे। तोड़फोड़ दस्ते का नेतृत्व सोहना बीडीओ प्रमेन्द्र सिंह द्वारा किया गया। जबकि किसी भी आपदा से निबटने के लिए भारी पुलिस बल मौजूद था। विभाग ने सभी फार्म हाउसों को चिन्हित किया हुआ था। जिनको गत दिनों लिखित नोटिस भी दिया गया था। तोड़फोड़ के दौरान किसी ने भी विरोध करने की कोशिश न की थी।
विदित है कि रायसीना अरावली पहाड़ी क्षेत्र में नामचीन हस्तियों ने फार्म हाउस विकसित किये हुए हैं। उक्त फार्म नेताओं, वकील, डॉक्टर, जज आदि ने बनाये हुए हैं। जिनमें ऐसे लोग मौज मस्ती के लिए आते हैं। जबकि ऐसे सभी फार्म हाउस अवैध हैं। जिनको गत दिनों एनजीटी ने अवैध करार दिया हुआ है। जिनपर तामीर करना गैर कानूनी है। विभाग की उक्त कार्यवाही पिछले साल से जारी है। किंतु फार्म मालिकों द्वारा अदालत का दरवाजा खटखटाने से उक्त कार्यवाही ठप्प हो गई थी। किन्तु अब दोबारा एनजीटी के दवाब के चलते परिषद विभाग पुनः हरकत में आ गया है। और उसने कार्यवाही की शुरुआत कर दी है। इस मौके पर परिषद कार्यकारी अधिकारी सन्दीप मलिक, म्युनिसिपल इंजीनियर सुशील ठाकरान, बिल्डिंग इंस्पेक्टर मनोज सिवाच के अलावा कर्मचारी व पुलिस जवान मौजूद थे।
क्या कहते हैं अधिकारी
सोहना नगरपरिषद के कार्यकारी अधिकारी सन्दीप मलिक कहते हैं कि उक्त तोड़फोड़ की कार्यवाही एनजीटी के आदेशों पर की गई है। जी निरंतर जारी रहेगी। विभाग ने 16 अवैध फार्मों की ध्वस्त किया है जिसके लिए 4 जेसीबी मशीनों का सहयोग लिया गया है।