कलाकारों की मांग को लेकर मुख्यमंत्री से मिले कला परिषद के उच्चाधिकारी

-मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दिए तुरंत कार्यवाही के आदेश ।
गुरुग्राम : हरियाणा कला परिषद के उच्चाधिकारियों के दल ने मुख्यमंत्री से मिलकर पंजाब में स्थित उत्तर क्षेत्रिय सांस्कृतिक केंद्र को हरियाणा में शिफ्ट करने की मांग को उन्हें सौंपा ।मुख्यमंत्री ने इस पे तुरंत संज्ञान लेते हुए आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिए ।कला परिषद के निदेशकों ने इसपे मुख्यमंत्री का आभार जताया व हरियाणा के कलाकारों को इससे होने वाले लाभ बारे बताया।
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने इस मौके पे कहा कि और वर्गों की तरह प्रदेश के कलाकारों ने भी करोना में समस्याएं झेली हैं ।हालांकि उन्हें करोना काल में मानदेय के अलावा अन्य सहायता उपलब्ध करवाई गई लेकिन ये प्रयाप्त नहीं हैं ।मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि भविष्य में कलाकारों को लाभान्वित करने के लिए कई योजनाएं व उन्हें मंच प्रदान करने के लिए विस्तार से ड्राफ्ट तैयार किया जाए ।
इस अवसर पर कला परिषद के निदेशक संजय भसीन,अतिरिक्त निदेशक गजेंद्र फौगाट, महावीर गुड्डू ने प्रदेश के सैंकड़ों कलाकारों द्वारा हस्ताक्षरित एक ज्ञापन भी मुख्यमंत्री मनोहर लाल को सौंपा । इसमें पिछले 35 सालों से उत्तर क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र, पटियाला के मुख्यालय को हरियाणा में स्थानांतरित करने बारे मांग की गई है। इसके अलावा ज्ञापन में खासकर लोक कलाकारों ने मांग की कि इस सांस्कृतिक केन्द्र के सभी राज्यों में एक-एक सब सैंटर भी खोले जाने चाहिए, क्योंकि नार्थ जोन कल्चर सेंटर के पटियाला में होने के कारण केवल पंजाब के ही कलाकारों को फायदा हो रहा है। अन्य सभी राज्यों खासकर हरियाणा के कलाकारों के साथ वहां भेदभाव बरता जाता है।इसमे पंजाब के ही स्टाफ का दबदबा है जो सात राज्यों में से किसी भी राज्य के कलाकार को उसके अधिकार से वंचित रखते हैं ।
इस बारे अधिक जानकारी देते हुए संजय भसीन ने बताया कि कलाकारों ने इस ज्ञापन में मांग की है कि हरियाणा के गीता जयंती, सरस्वती महोत्सव व अन्य राज्य स्तरीय- राष्ट्रीय समारोह में उत्तर क्षेत्र द्वारा भेजे गए पंजाब के कलाकारों के बराबर हरियाणा के कलाकारों को भी मेहनताना दिया जाना चाहिए। कलाकारों ने ज्ञापन में यह भी कहा कि पिछले 36 साल से एक ही राज्य में इस केन्द्र का होना व इसमें लगभग सभी अधिकारी पंजाब के ही भरे होने से अन्य प्रदेशों जैसे जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, चण्डीगढ़, उत्तराखंड, राजस्थान के कलाकारों की उपेक्षा हो रही है।