जनता मांगे उप मंडल फर्रुखनगर : जनता को मांग पूरी होने का है इंतज़ार !

फर्रूखनगर (नरेश शर्मा) : फर्रुखनगर जैसे पिछडे इलाके को अगर उप मंडल का दर्जा मिलता है तो यह इलाके के लिए किसी वरदान से कम नहीं होगा। इलाके की अब जरुरत बन गई है। हर मायने में फर्रुखनगर इलाका उप मंडल बनने योग्य है। इस मुहिम पर सांसद एवं केंद्रीय राज्य मंत्री राव इंद्रजीत सिंह, पटौदी विधायक सत्य प्रकाश जरावता, बादशाहपुर के विधायक राकेश दौलताबाद मुख्यमंत्री को पत्र लिख कर इस जरुरत को सही ठहरा कर अपनी स्वीकृति की मोहर भी लगा चुके है। इलाके की जनता उस वक्त का बेसब्री से इंतजार कर रही है , जब फर्रुखनगर को उप मंडल का दर्जा मिलेगा। इलाके के लोग उप मंडल का दर्जा पाने के लिए बडे से बडा बलिदान देने के लिए तैयार है। सरकार को चाहिए की इलाके की जनता को सम्मान दे ताकि इलाका बीजेपी सरकार का लम्बे समय तक गुणगान कर सके।
विनय शर्मा, धर्मेंद्र सहरावत मांकडौला, गौरव यादव, बसंत लाल , अधिवक्ता जयकिशन जाटव, होशियार सैनी, अमेश बोडवाल, देविंद्र यादव मुशैदपुर आदि का कहना है कि फर्रुखनगर इलाका दिल्ली एनसीआर का हिस्सा होने के बावजूद भी उपेक्षित है। यहां जो विकास की बयार बहनी चाहिए थी, वह उससे आज भी वंचित है। इस इलाके में विश्व भर में विख्यात राष्ट्रीय पक्षी उद्यान सुल्तानपुर झील, एतिहासिक भव्यता को दर्शाती इमारते है। जिनके दीदार करने के लिए हजारों की संख्या में देशी विदेश पर्यटक भी आते है। लेकिन जब वह इलाके के पिछडा पन देखते है तो अपने आप को ठगा सा महशूस करते है। सुविधाओं के नाम पर उन्हें इलाके में कोई विशेष नजर नहीं आता है। जिसके कारण यहां पर्यटकों के आगमन से जो लाभ मिलना चाहिए वह स्थानीय लोगों को नहीं मिल पा रहा है। ऐतिहासिक ईमारते भी अनदेखी के चलते जर्ज होती जा रही है। सरकार या प्रशासन का इनकी ओर बिलकुल भी ध्यान नहीं है। फर्रुखनगर इलाका कृषि, मुढडे, फूल, सब्जी उत्पादन, दुग्ध उत्पादन के लिए भी जाना जाता है। इतना कुछ होने के बावजूद भी फर्रुखनगर इलाके को जो मान सम्मान मिलना चाहिए था , वह अभी तक नहीं मिला है। इस इलाके में शिक्षा, चिकित्सा, कृषि, बागवानी, खाद़य एवं आपूर्ति विभाग, जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग, बिजली दफ्तर, तहसील, खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी, मार्केट कमेटी दफ्तर, थाना आदि सुविधाओं का ग्रामीण भरपूर लाभ उठा रहे है।
लेकिन जब उन्हे उप मंडल स्तर , जिला स्तर, कोर्ट आदि से सम्बंधित कार्य होते है तो उन्हें पहले फर्रुखनगर, पटौदी और फिर गुरुग्राम का करीब 50 किलो मीटर लम्बा सफर तय करना पड़ता है। परिवहन सुविधा आधे इलाके में है नहीं। जिसके कारण वह सम्बंधित अधिकारियों के दफ्तरों में पहुंचने में लेट होना पड़ता है। अधिकारी समय पर मिलते नहीं है। उन्हें दफ्तरों के चक्कर ही काटने पड़ते है। अगर फर्रुखनगर को उप मंडल का दर्जा मिल जाये तो उन्हे एक ही छत के नीचे सभी कार्य कराने में सुविधा मिलेगी और कोर्ट सम्बंधित सभी कार्य भी आसानी से यहीं होने लगेंगे। धन और समय की बचत होगी। इलाके की जनता द्वारा फर्रुखनगर को उप मंडल बनाने की मांग हर मायने में सही है। इसका पूरा इलाका सर्मथन करता है।