किसान आंदोलन : दो और किसानों की मौत, एक को कुंडली बॉर्डर पर हार्ट अटैक, दूसरे ने टीकरी बॉर्डर पर खाया जहर

नई दिल्ली : देश की सरकार की तरफ से बनाए गए तीन कृषि कानूनों का विरोध ठंडा पड़ने का नाम ही नहीं ले रहा। आंदोलन का आज 56वां दिन है। भले ही केंंद्र सरकार ने किसानों के आगे झुकते हुए कानूनों को 2 साल तक लिए रोक दिया है, पर अभी आंदोलन जारी है। इसी बीच हरियाणा में दिल्ली की दहलीज पर जारी धरनों में आज दो और जानें चली गई। एक की सोनीपत के सिंघु बॉर्डर पर दिल की धड़कन थम गई तो दूसरे ने बहादुरगढ़ के टीकरी बॉर्डर पर जहर खा लिया। अब तक इस आंदोलन में मौतों का कुल आंकड़ा 62 हो गया है। 26 जनवरी को ट्रैक्टर मार्च पर सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता करने से इन्कार कर दिया है, वहीं खाप पंचायतों ने दिल्ली कूच से रोकने पर बैरिकेड्स तोड़ देने की चेतावनी दी है।
सोनीपत के कुंडली कहें या सिंघु बॉर्डर पर मरने वाले किसान की पहचान लुधियाना जिले के गांव धत्त के 34 वर्षीय जगजीत सिंह के रूप में हुई है। पुलिस ने शव पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। वहीं, टीकरी बॉर्डर पर एक किसान ने जहर खाकर जान दे दी। रोहतक जिले के पाकस्मा निवासी जयभगवान ने मंगलवार को जहर खा लिया। आनन-फानन में उसे संजय गांधी अस्पताल में भर्ती करवाया गया, लेकिन वहां aबुधवार को इलाज के दौरान मौत हो गई। पता चला है कि जयभगवान आंदोलनरत किसानों के लिए अक्सर दूध और सब्जियां लेकर आता था।