नहाय-खाय के साथ बुधवार से शुरू होगा सूर्य देव को समर्पित ‘छठ पर्व’

गुरुग्राम: लोक आस्था का महापर्व छठ का आयोजन बुधवार से शुरू हो जाएगा। चार दिवसीय इस पर्व की शुरुआत पहले दिन नहाय-खाय से होती है। दूसरे दिन खरना होता है। तीसरे दिन डूबते सूर्य को अ‌र्घ्य दिया जाता है जबकि चौथे यानी अंतिम दिन उगते सूर्य को अ‌र्घ्य दिया जाता है। इसे लेकर काफी संख्या में बिहार एवं पूर्वी उत्तर प्रदेश के लोग अपने गृह प्रदेश रवाना होने लगे हैं। सोमवार को बस अड्डे पर दिन भर गृह प्रदेश जाने वालों का हुजूम रहा। यही नहीं कुछ लोग बस रिजर्व करके भी गृह प्रदेश रवाना हो रहे हैं। इधर शहर में भी विभिन्न संगठनों ने छठ पर्व की तैयारी शुरू कर दी है।
बिहार एवं पूर्वी उत्तर प्रदेश के लोगों का सबसे बड़ा पर्व छठ है। इसे वहां के रहने वाले अधिकतर लोग मनाते हैं। पहले पर्व मनाने के लिए अधिकतर लोग अपने गृह प्रदेश चले जाते थे लेकिन अब अधिकतर लोग यहीं पर पर्व मनाने लगे हैं। कोरोना संकट को देखते हुए इस बार अधिकतर लोग अपने घर में ही पर्व मनाएंगे। प्रवासी एकता मंच के अध्यक्ष सत्येंद्र सिंह का कहना है कि कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए पर्व का आयोजन किया जाएगा।
दूसरी और मारुति कुंज छठ पूजा समिति ने कोरोना संक्रमण के चलते छठ महापर्व पर सामूहिक कार्यक्रम नहीं करने का फैसला लिया है। छठ पर्व पर सभी अपने-अपने घरों में रहकर ही पूजा अर्चना करेंगे। मारुति कुंज आसपास की कालोनियों में छह स्थानों पर अस्थाई घाट बनाकर सामूहिक छठ पर्व के कार्यक्रम आयोजित किए जाते है। इस क्षेत्र में काफी संख्या में पूर्वांचल के लोग रहते हैं।
छठ पर्व के बारे में ये है लोक मान्यता
छठ पर्व के बारे में कहा जाता है कि पूर्वांचल और बिहार में अनिवार्य रूप से लोग छठ मनाते हैं। इस दिन सभी लोग अपने घरों में एकत्रित होते हैं। छठ पर्व के बारे में यह धारणा है कि यह मुख्य रूप से पूर्वांचलियों का पर्व है। इसके पीछे कारण यह है कि इस पर्व की शुरुआत अंगराज कर्ण से माना जाता
है। अंग प्रदेश वर्तमान भागलपुर है जो बिहार में है। अंग राज कर्ण के विषय में कथा है कि यह पाण्डवों की माता कुंती और सूर्यदेव की संतान हैं। कर्ण अपना आराध्य देव सूर्य देव को मानते थे। वह नियमपूर्वक कमर तक पानी में जाकर सूर्य देव की आराधना करते थे और उस समय जरुरतमंदों को दान भी देते था। माना जाता है कि कार्तिक शुक्ल षष्ठी और सप्तमी के दिन कर्ण सूर्यदेव की विशेष पूजा किया करते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *