सोहना में राजस्थान पुलिस को ही बना लिया बंधक

गुरुग्राम : राजस्थान के अलवर जिले से अदालत के आदेश पर गांव सांपकी नगली में अपनी दादी के मायके रह रहे दो बच्चों को लेने पहुंची पुलिस टीम को नगर परिषद की पार्षद के पति ने ग्रामीणों के साथ मिलकर बंधक बना लिया। आरोप हैं कि पुलिसकर्मियों को तीन घंटे तक बंधक बनाए रखा गया। इस दौरान उनके साथ मारपीट की गई। सूचना के बाद सोहना सिटी थाने की पुलिस गांव पहुंची और बंधक बनाए गए तीन पुलिसकर्मियों को छुड़वाया। पुलिस ने इस मामले में महिला पार्षद रेखा के पति बलबीर गबदा सहित पचास लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।
अलवर जिले के गांव पालमपुर निवासी सुष्मिता की शादी गुरुग्राम के गांव तिगरा में हुई थी। पति-पत्नी में विवाद के चलते सुष्मिता अपने मायके में रह रही है। उसने पति व ससुराल वालों के खिलाफ अलवर के भिवाड़ी थाने में मामला दर्ज कराया था। केस अदालत में चल रहा है। अदालत में पीड़िता ने बताया कि उनकी बेटी भावना व बेटे ब्रह्मापाल को ससुराल वाले जबरन रखे हुए हैं। अदालत ने सुनवाई करते हुए पुलिस को बच्चों को लाकर मां को सौंपने के निर्देश दिए थे। जिसके बाद भिवाड़ी थाने में तैनात एएसआइ अमीलाल की अगुवाई में शुक्रवार शाम चार बजे तीन सदस्यीय पुलिस टीम तिगरा पहुंची तो वहां से पता चला कि बच्चे अपनी दादी के मायके सोहना से सटे गांव सांपकी नगली में रह रहे हैं। जिसके बाद तीनों पुलिसकर्मी सांपकी नगली पहुंचे। बताते हैं कि बच्चों को लेकर जैसे ही पुलिसकर्मी चलने लगे तो पार्षद के पति बलबीर गबदा की अगुवाई में पचास से अधिक ग्रामीण आ गए और बच्चों को अपने कब्जे में लेकर पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट कर उन्हें एक कमरे में बंद कर दिया। पुलिसकर्मियों ने फोन कर आपबीती अपने उच्च अधिकारियों को बताई तो अलवर पुलिस अधीक्षक ने गुरुग्राम पुलिस को सूचना दी। जिसके बाद सोहना के दोनों थानों की पुलिस मौके पर पहुंची और बंधक बनाए गए पुलिसकर्मियों को छुड़ाया। पुलिस प्रवक्ता सुभाष बोकन ने बताया कि एएसआइ अमीलाल की शिकायत पर बलबीर गबदा, कैप्टन हरिराम, सतीश, ओमबीर, नीलू, मनोज, पवन, प्रदीप सहित पचास लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। आरोपितों में कई महिलाएं भी शामिल हैं। वहीं, बलबीर गबदा का कहना है कि पुलिस टीम किसी दूसरे बच्चे का अपहरण कर ले जा रही थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *