चार साल से रास्ता निर्माण कार्य बंद, सीएम दरबार पहुंचे ग्रामीण !

फर्रुखनगर (नरेश शर्मा) : खंड के गांव धानावास के रास्ता नंबर 74 के निर्माण में बाधा बने अवैध कब्जों को हटवाने तथा अवैध कब्जेधारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की मांग को लेकर ग्रामीण सीएम दरबार में पहुंच गए है। बार बार शिकायतों के बाद भी करीब चार साल से रास्ता निर्माण कार्य बंद पडा होने के कारण ग्रामीणों को भारी परेशानी उठानी पड़ रही है। संतरी से लेकर मंत्री तक गुहार लगाये जाने के बाद भी रास्ते पर अवैध कब्जे बरकरार है।
मुख्य मंत्री के नाम भेजे पत्र में अशोक कुमार पुत्र गुगन सिंह यादव जरनल सैकट्ररी बीजेपी मंडल फर्रुखनगर ने बताया कि गांव धानावास के रेलवे फाटक से रास्ता नंबर 74 जो जो करीब एक किलो मीटर लम्बे और 22 फीट चौडे रास्ते का निर्माण कार्य का शिलान्यास 24 जून 2017 को तत्कालीन लोक निर्माण मंत्री राव नरबीर सिंह ने तत्कालीन पंचायत समिति चेयर पर्सन गीता यादव की अध्यक्षता में किया था। यह रास्ता गुरुग्राम पटौदी स्टेट हाईवे से गांव धानावास को जोडता है। करीब 47 लाख की लागत से एक्सईएन पंचायती राज गुरुग्राम द्वारा निर्माण कराया जा रहा है। गांव और रोड तक रास्ता निमार्ण के लिए रोडिया डालकर तैयार कर दिया गया और रास्ते की तीन बार पैमाईस भी कराई गई है। लेकिन रास्ते के मध्य कुछ किसान जबरदस्ती उक्त रास्ता निर्माण को रोके हुए है।
अवैध कब्जों को हटाने के लिए तीन बार डयूटी मजिस्ट्रेट , पुलिस फोर्स भी नियुक्त की जा चुकी है। लेकिन राजनितिक दवाब के चलते यह मामला ठंडे बस्ते में में पडा हुआ है। हैरत की बात तो यह है कि खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी फर्रुखनगर अंकित चौहान द्वारा अवैध कब्जेधारियों के खिलाफ 12 फरवरी 2021 को पत्र क्रमांक 352 के तहत थाना प्रभारी फर्रुखनगर को एफआईआर दर्ज कराने के लिए भी पत्र भेजा हुआ है। बावजूद इसके भी अवैध कब्जेधारियों के खिलाफ पुलिस मामला दर्ज नहीं कर रही है। जिसके कारण अवैध कब्जेधारियों के हौंसले बुलंद है। रास्ता नंबर 74 रेलवे फाटक से पटौदी गुरुग्राम स्टेट हाईवे तक अवरुद्ध होने से ग्रामीणों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है|