सामाजिक समरसता व एकता का अलख जग गया समर्पण निधि अभियान : आरएसएस प्रान्त प्रचारक

-हरियाणा में 45 लाख घरों से सम्पर्क कर एकत्रित की 52 करोड़ की राशि
गुरुग्राम : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांत प्रचारक विजय कुमार का कहना है कि श्री राम जन्मभूमि समर्पण निधि अभियान सर्व समाज की एकता व सामाजिक समरसता के भाव के साथ संपन्न हुआ है। किसी एक काम के लिए, लाखों रामभक्तों द्वारा, करीब तीन हजार करोड़ रुपये एकत्रित करना यह अपने आपमें विश्व कीर्तिमान है। श्री कुमार स्थानीय सिधेश्वर मंदिर में बने समर्पण निधि अभियान कार्यालय में अभियान समीक्षा बैठक में बोल रहे थे। इस अवसर पर अभियान में सम्मिलित हुए कार्यकर्ताओं ने अपने अपने अनूठे व भावपूर्ण अनुभव भी सुनाए।
इससे पूर्व गुरुग्राम महानगर अभियान पालक अमन शर्मा ने बताया कि गुरुग्राम महानगर को 132 बस्तियों में बाँटकर तीन लाख घरों तक पहुंचने के लक्ष्य को बड़ी आसानी से पूरा कर लिया गया। 5557 होर्डिंग,56 हजार 4 सौ पत्रक, 57 प्रचार वाहन के माध्यम से शहर को राममय बनाने का कार्य किया। तीन लाख 12 हजार घरों तक कार्यकर्ता पहुंचे। 7 करोड़ की राशि एकत्रित की गई। जिसमे 729 टोलियां ने कार्य किया।
समीक्षा बैठक में पहुंचे प्रान्त प्रचारक विजय कुमार ने सफलता पूर्वक अभियान चलाने के लिए सभी कार्यकर्ताओं को बधाई देते हुए कहा कि जिस भावना से इस अभियान को प्रारम्भ किया गया था उसी भावना से अभियान ने सफलता के सोपान छुएं हैं। क्योंकि राम जी का जीवन मर्यादित रहा था इसलिए रामभक्तों ने भी पूरी मर्यादित भावना से इस अभियान में रामभक्त बनकर कार्य किया।यह राम जी की कृपा के बिना संभव नहीं था। उनके अनुसार इस अभियान के दौरान अनेक ऐसे वंचित लोगों के घर भी जाना हुआ जो वर्षों से उपेक्षा का दंश झेल रहे थे। प्यासा ही कुंए के पास जाता है यह कहावत कही जाती है लेकिन राम जी की मर्यादा कहती है कि अगर प्यासा कुंए के पास नहीं जा सकता तो कुंए को ही प्यासे के पास जाना पड़ता है।
भगवान राम भी माता शबरी और माता अहिल्या के पास गए थे।ऐसे ही राम भक्त भी राममंदिर निर्माण में सहयोग राशि लेने वंचित,उपेक्षित लोगों के घर गए। उन्होंने बताया कि अनेक ऐसे कार्यकर्ता रहें जो राम जी के वनवास की भांति पूरे अभियान में अपने घरों में नही गए। उनके अनुसार रामन्दिर निर्माण 5 सदियो की तपस्या का परिणाम है। यही वजह रही कि सर्व समाज ने एक निष्ठ होकर राममंदिर निर्माण में अपनी भावनिधि अर्पण की। प्रान्त प्रचारक ने कहा कि मंदिर निर्माण से घर घर जाकर निधि एकत्रित कर छुआ छूत मिटाने का जो भाव जगा है वह सतत बना रहना चाहिए तभी राम मंदिर की सार्थकता होगी। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि हरियाणा में 45 लाख परिवारों से संपर्क किया गया। इसमें 52 करोड़ की निधि एकत्रित की गई। इस अवसर पर आरएसएस विभाग कार्यवाह हरीश कुमार, अभियान प्रमुख अजीत कुमार, सह प्रमुख संजीव सैनी के अलावा बड़ी संख्या में अभियान में लगे कार्यकर्ता मौजूद थे।