सरकार की तानाशाही और हठधर्मिता के ख़िलाफ़ मनाया गया काला दिवस : चौधरी संतोख सिंह

-हाथ की बाहों पर काली पट्टियां बांधकर धरने पर बैठे किसान, घरों तथा धरने पर लगाए काले झंडे
गुरुग्राम : किसानों की माँगो के समर्थन में अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे संयुक्त किसान मोर्चा गुरुग्राम के अध्यक्ष चौधरी संतोख सिंह ने बताया कि किसान आंदोलन के 101वें दिन किसान,मज़दूर तथा गुरुग्राम के विभिन्न सामाजिक संगठनों के प्रमुख व्यक्ति हाथ की बाहों पर काली पट्टियां बांधकर धरने पर बैठे तथा सरकार की तानाशाही और हठधर्मिता के ख़िलाफ़ किसानों ने काला दिवस मनाया।उन्होंने बताया कि आज किसान मोर्चा की कई टीमें सिंघु बॉर्डर तथा टीकरी बॉर्डर पर किसानों के समर्थन में गई हैं।
किसान मोर्चा अध्यक्ष चौधरी संतोख सिंह ने धरने को संबोधित करते हुए कहा कि किसान आन्दोलन को सौ दिन पूरे हो चुके हैं लेकिन सरकार हठधर्मिता अपनाए हुए हैं और किसानों की आवाज़ को सुन नहीं रही है।उन्होंने कहा कि सरकार ने जनता पर ज़बरदस्ती तीन काले क़ानून थोपें हैं। उन्होने कहा कि सरकार ने जो क़ानून बनाए हैं ये किसानों की कभी भी माँगे नहीं थी। उन्होने कहा कि सरकार ने तीनों क़ानून पूंजीपतियों को लाभ पहुँचाने के लिए बनाए हैं।उन्होंने कहा कि तीनों काले क़ानून रद्द किए जाएं तथा एमएसपी की गारंटी का क़ानून बनाया जाए।
धरने को संबोधित करते हुए डॉक्टर धर्मबीर राठी ने कहा कि सरकार आंदोलन को लंबा खींच कर तोड़ना चाहती है। उन्होने कहा कि सरकार आंदोलन को तोड़ने के लिए षड्यंत्र रच रही है।उन्होंने कहा कि सरकार क्षेत्र जाति और धर्म के नाम पर किसानों में फूट डालना चाहती है।उन्होंने कहा कि किसान एकजुट हैं। धरने को संबोधित करते हुए विजय यादव ने कहा कि सरकार पूंजीपतियों के दबाव में है इसलिए सरकार क़ानून वापस नहीं ले रही। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के चुने हुए प्रतिनिधि चुप बैठे हुए हैं तथा किसानों की अनदेखी कर रहे हैं। उन्होने कहा कि सभी को एकजुट होकर आंदोलन में सहयोग करना चाहिए।
धरने को संबोधित करते हुए मुकेश डागर ने कहा कि किसान आंदोलन अब जन आंदोलन बन चुका है। उन्होंने कहा कि आज पूरे देश में काला दिवस मनाया गया है। उन्होंने कहा कि केएमपी पूरी तरह से जाम रहा।उन्होंने कहा कि आज का धरना प्रदर्शन पूरी तरह से शांतिपूर्वक था। धरने को संबोधित करते हुए किसान ईश्वर सिंह ने कहा कि आज़ादी के बाद से ये आज तक का सबसे बड़ा आंदोलन है। उन्होंने कहा कि पहले कभी भी किसी सरकार ने इतनी तानाशाही नहीं दिखाई।
धरने को संबोधित करते हुए देविका सिवाच ने कहा कि अब तक 250 ज़्यादा किसान शहीद हो चुके हैं।उन्होंने कहा कि ये किसान सरकार की हठधर्मिता और असंवेदनशीलता के कारण शहीद हुए हैं। किसान महासिंह ने कहा कि सरकार पेट्रोल डीज़ल के दाम बढ़ा रही है जिससे किसान प्रभावित होंगे।उन्होंने कहा कि तीनों काले क़ानून लागू होने से महँगाई बढ़ेगी। धरने को संबोधित करते हुए नवनीत रोज़खेडा ने कहा कि जब तक किसानों की माँगें मानी नहीं जाती तब तक आंदोलन जारी रहेगा।